Friday, July 19, 2024
spot_img
Homeकविता१५ अगस्त

१५ अगस्त

जब आये १५ अगस्त का दिन

याद दिलाये उन वीरों की

जिनके श्रम और बलिदानों से

भीगी भारतवर्ष की धरती

चौराहों और गलियारों में

फैली एक आज़ाद सी खुशबू

आकाँक्षाएं स्वछन्द विचरती

मन में कुछ दायित्व उभरते

नव-निर्माण के भाव अनोखे

नव-युग के प्रांगण में पलते

गौतम बुद्ध सी नई चेतना

लेकर भारतवासी बढ़ते

तोड़ कर बंधन गुलामी का

झंडा ऊँचा हम हैं करते

ज़िम्मेदार नागरिक होने का

वादा भी हम सब हैं करते

अर्जुन सी दृढ़ शक्ति लेकर

लक्ष्य-भेद का पाठ हैं पढ़ते

लेकर नये सलोने सपने

धरती को अपनी हैं रंगते

जला कर होली बर्बरता की

नव आभा संचारित करते

स्वदेश का लोहा मनवाने को

जग द्वारे पर क़दम बढ़ाते

जल में बहती कश्ती पर हम

मुस्कानों की छवि लुटाते

हटा कर बादल नभ पर सारे

भारत का परचम लहराते ॥

सविता अग्रवाल’सवि'(कैनेडा)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार