Friday, June 14, 2024
spot_img
Homeपुस्तक चर्चाआर्यों ने छुआछूत मिटाई

आर्यों ने छुआछूत मिटाई

ये घटना घरोंडे की आज से लगभग 70 -80 साल पुरानी है। स्वामी भीष्म जी के पास आश्रम में पं. चन्द्रभानु जी व 16 विद्यार्थी थे। वें एक कुवें पर पानी लेने गए। स्थानीय लोगों ने कुवें पर नहीं चढ़ने दिया। बोले की स्वामी भीष्म के पास हरिजन के लड़के भी रहते हैं। हमारा धर्म भ्रष्ट कर दिया। लेकिन विद्यार्थियों के संस्कार पक्के हो चूके थे। उन्होंने कहा तुम सुंघ कर पहचान लो जो हरिजन के हों उन्हें मत चढ़ने देना लेकिन वे टस से मस न हुए। वें विद्यार्थी स्वामी जी के पास आए और उन्हें सारी घटना बताई। स्वामी जी ने कहा कि भाई हमारे यहां सबके द्वार खुले हैं। वहां मकान में आँगन था। कुईं खोदने का आदेश दिया। शाम तक कुईं खोद कर तैयार कर दी। पानी बड़ा मीठा था। आस पास तथाकथित अछूतों के सैकड़ों घर थे। स्वामी जी छत पर चढ़ गए और लगे आवाज लगाने – भाई, हमारी कुईं से सब हरिजन पानी भर लो। अगले दिन उस कुईं की काठी नीचे उतारने के लिए स्वामी भीष्म जी और स्वामी रामेश्वरानंद जी ने आपस में हाथ पकड़कर कोठी का चक्कर कटाया, कोठी सही फिट हो गई। उस दिन के बाद सभी हरिजन उस कुई से पानी भरने लगे।
स्त्रोत :- पं. चन्द्रभानु आर्योपदेशक व्यक्तित्व कृतित्व
लेखक :- सहदेव समर्पित (जींद)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार