Tuesday, March 5, 2024
spot_img
Homeखबरेंएक भारत श्रेष्ठ भारत' योजना के तहत भारत गौरव डीलक्स ट्रैन शुरु...

एक भारत श्रेष्ठ भारत’ योजना के तहत भारत गौरव डीलक्स ट्रैन शुरु होगी

वाइब्रेंट गुजरात की विरासत को दर्शाने के लिए इस रेल यात्रा को भारत सरकार की “एक भारत श्रेष्ठ भारत” योजना की भावना के अनुरूप डिजाइन किया गया है।
अत्याधुनिक भारत गौरव डीलक्स एसी टूरिस्ट ट्रेन फर्स्ट एसी और सेकेंड एसी क्लास के साथ आठ दिनों तक की समग्र यात्रा के लिए चलाई जाएगी।
इस पर्यटक ट्रेन में 4 फर्स्ट एसी कोच, 2 सेकंड एसी कोच, एक अच्छी तरह से सुसज्जित पेंट्री कार और दो रेल रेस्तरां हैं। इसमें 156 पर्यटक सवार हो सकते हैं।
गुजरात के प्रमुख तीर्थस्थलों और विरासत स्थलों यानी स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, चंपानेर, सोमनाथ, द्वारका, नागेश्वर, बेट द्वारका, अहमदाबाद, मोढेरा और पाटन की यात्रा इस यात्रा कार्यक्रम के प्रमुख आकर्षण होंगे।
पर्यटक इस पर्यटक ट्रेन से गुरुग्राम, रेवाड़ी, रींगस, फुलेरा और अजमेर रेलवे स्टेशनों पर चढ़/उतर सकते हैं।
आईआरसीटीसी ने ग्राहकों को ईएमआई भुगतान का विकल्प उपलब्ध कराने के लिए पेमेंट गेटवे के साथ समझौता भी किया है।

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे अपनी भारत गौरव डीलक्स एसी टूरिस्ट ट्रेन चलाकर वाइब्रेंट गुजरात राज्य की सांस्कृतिक और आध्यात्मिक विरासत को प्रदर्शित करने के लिए एक बहुत ही खास यात्रा ‘गर्वी गुजरात’ की शुरुआत कर रहा है। आईआरसीटीसी द्वारा संचालित यह विशेष पर्यटक ट्रेन 28 फरवरी को दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से आठ दिनों की यात्रा पर रवाना होगी. पर्यटकों की सुविधा के लिए गुरुग्राम, रेवाड़ी, रींगस, फुलेरा और अजमेर रेलवे स्टेशनों पर चढ़ने और उतरने की सुविधा प्रदान की गई है।

रेल यात्रा के इस पैकेज को महान स्वतंत्रता सेनानी सरदार वल्लभ भाई पटेल के जीवन पर आधारित “एक भारत श्रेष्ठ भारत” की भारत सरकार की योजना की भावना के अनुरूप डिजाइन किया गया है। रेल यात्रा के इस पैकेज का पहला ठहराव केवडिया में रखा गया है, जहां स्टैच्यू ऑफ यूनिटी आकर्षण का केन्द्र होगी। पूरी ट्रेन आठ दिनों की यात्रा के दौरान लगभग 3500 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा – स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, चंपानेर पुरातात्विक पार्क जो यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है, अधलेज की बावड़ी, अहमदाबाद के अक्षरधाम मंदिर, साबरमती आश्रम, मोढेरा सूर्य मंदिर और एक अन्य यूनेस्को स्थल पाटन स्थित रानी की वाओ की यात्रा इस यात्रा कार्यक्रम में शामिल विरासत के प्रमुख खजाने हैं। इसके अलावा, सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, नागेश्वर ज्योतिर्लिंग, द्वारकाधीश मंदिर और बेट द्वारका की यात्रा आठ दिनों की इस यात्रा में शामिल रहने वाले धार्मिक स्थल हैं। होटलों में दो रात्रि प्रवास होंगे, क्रमशः केवडिया और अहमदाबाद में एक-एक, जबकि सोमनाथ और द्वारका के स्थानों की यात्रा गंतव्य पर दिन के पड़ाव में शामिल होगी।

इस अत्याधुनिक डीलक्स एसी टूरिस्ट ट्रेन में खानपान के दो बेहतरीन रेस्तरां, एक आधुनिक किचन, कोचों में शॉवर क्यूबिकल्स, वॉशरूम में सेंसर आधारित कार्यप्रणाली, फुट मसाजर सहित कई अदभुत विशेषताएं हैं। पूरी तरह से वातानुकूलित यह ट्रेन दो प्रकार की आवासन सुविधा प्रदान करती है। फर्स्ट एसी और सेकेंड एसी। इस ट्रेन में प्रत्येक कोच के लिए सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षा प्रहरी के साथ सुरक्षा सुविधाओं को बढ़ाया गया है और पूरी ट्रेन में इंफोटेनमेंट सिस्टम भी लगाया गया है।

भारत गौरव टूरिस्ट ट्रेन की शुरुआत घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार की पहल “देखो अपना देश” के अनुरूप है। इसकी कीमत की विभिन्न श्रेणियां एसी 2 टियर के लिए प्रति व्यक्ति 52250 रुपये से शुरू होकर एसी 1 (केबिन) के लिए प्रति व्यक्ति 67140 रुपये और एसी 1 (कूपे) के लिए प्रति व्यक्ति 77400 रुपये तक उपलब्ध हैं। आईआरसीटीसी टूरिस्ट ट्रेन आठ दिनों का संपूर्ण यात्रा पैकेज होगा और मूल्य संबंधित श्रेणी में ट्रेन की यात्रा, एसी होटलों में रात्रि विश्राम, सभी भोजन (केवल शाकाहारी), सभी स्थानांतरण और बसों में दर्शनीय स्थलों की यात्रा, यात्रा बीमा और गाइड की सेवाएं आदि शामिल होंगी। स्वास्थ्य संबंधी सभी आवश्यक एहतियाती उपायों का ध्यान रखा जाएगा और आईआरसीटीसी मेहमानों को एक सुरक्षित एवं यादगार अनुभव प्रदान करने का प्रयास करेगी।

व्यापक आबादी के लिए इस पैकेज को अधिक आकर्षक और किफायती बनाने के उद्देश्य से आईआरसीटीसी ने पेमेंट गेटवे के साथ करार किया है ताकि कुल भुगतान को छोटी राशि की ईएमआई में बांटकर ईएमआई भुगतान का विकल्प उपलब्ध कराया जा सके।

अधिक जानकारी के लिए आप आईआरसीटीसी की वेबसाइट: https://www.irctctourism.com पर जा सकते हैं और वेब पोर्टल पर बुकिंग ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर ऑनलाइन उपलब्ध है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार