आप यहाँ है :

पिज्जा खाने वाले सावधान, ये शाकाहारी नहीं मांंसाहारी है

अगर आप भी पिज्जा खाने के शौकीन है तो जरा अलर्ट हो जाए। क्योंकि जो पिज्जा आपको वेज बताकर परोसा जा रहा है, वो बिलकुल ही खाने लायक नहीं है। बाजार में मिल रहे वेज पिज्जा या डो में जानवर की चर्बी मिली होती है। जानकारी के अनुसार, पिज्जा के बेस यानी डो में जानवरों की चर्बी मिली होती है, जो हेल्थ के लिए बेहद नुकसान दायक है।

लखनऊ स्थित सरकारी प्रयोगशाला से आई रिपोर्ट में इसकी पुष्टि भी हुई है। खाद्य एवं औषधि विभाग ने पिज्जा का नमूना लेकर जांच को भेजा था, जो फेल हो गया है। जांच रिपोर्ट में पिज्जा बेस में जानवर की चर्बी होने और इसके असुरक्षित होने की पुष्टि हुई है। अधिकारियों का कहना है कि बरेली समेत तमाम शहरों में पिज्जा बेस सप्लाई करने वाली फर्म के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा। साथ ही उसका लाइसेंस भी रद्द करने की कार्रवाई की जाएगी।

खाद्य एवं औषधि विभाग के अभिहित अधिकारी धर्मराज सिंह ने बताया कि चार अक्टूबर 2018 को दीनदयालपुरम स्थित एक फर्म से वेज पिज्जा का नमूना भेजा गया था। जिसे लखनऊ की लैब में जांच के लिए भेजा गया था। फरवरी माह में नमूने की जांच रिपोर्ट आई है, जिसमें यह फेल हो गया है। रिपोर्ट के अनुसार पिज्जा के बेस में एनिमल फैट यानी जानवरों की चर्बी की मिलावट पाई गई है। जो इंसानों की सेहत के लिए असुरक्षित है।

नमूना फेल होने की वजह से पिज्जा बेस की सप्लाई करने वाली नोएडा स्थित कंपनी जुबिलेंट फूड वर्क्स के खिलाफ के केस दर्ज किया जाएगा। जिला अभिहित अधिकारी ने बताया कि, केस दर्ज करने से पहले उन्हें एक नोटिस भेजा जाएगा। अगर वह अपने नमूने की फिर से जांच कराना चाहे तो उन्हें एक महीने का समय दिया जाएगा। अगर इस निश्चित समय में वह नोटिस का जवाब नहीं देते हैं या फिर जांच में फिर से नमूना फेल होता है तो उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top