Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोदेश-दुनिया में छा गई पंजाब की पहली वेल्डिंग गर्ल!

देश-दुनिया में छा गई पंजाब की पहली वेल्डिंग गर्ल!

एक लड़की है ~ हरपाल कौर नाम है
पंजाब की पहली वेल्डिंग गर्ल …!!!
सिखों की एक बेहद जुझारू लड़की…!!!
पंजाब के लुधियाना और जालंधर के बिल्कुल बीच में
फगवाड़ा से मात्र 13 किलोमीटर दूर गुरा नामक गाँव मे रहती है।
मात्र बीस वर्ष की उम्र में पिता ने शादी कर दी। ससुराल वालों से मतभेद हुए, पिता के पास आकर रहने लगी।नौ साल का एक लड़का है उसे भी साथ ले आई। तीन कुंवारी बहने पहले से घर मे थी। पिता ने ससुराल में रहने को फोर्स करने की बजाय उसे खुद की लाइफ अपने हिसाब से जीने को स्वंतत्र किया और उसके फैसले के साथ रहे।

अब 9 वर्ष के लड़के के साथ मायके में रहना भी लड़की के लिए आसान नही होता। तलाक का केस चल रहा। परिवार रिस्तेदारों के व्यंग्य बाण रोज सुनने को मिलते। रोज पिता से खर्च मांगना भी आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाता….!!!

कहीं जॉब शुरू करके जीवन को पटरी पर लाने की कोशिश की लेकिन नही कर पाई।

पिता की एक दुकान है वेल्डिंग करके कृषि उपकरण बनाने की। दुकान के ऊपर उनका घर है लड़की ने पिता को कहा यहीं दुकान पर काम कर लेती हूँ , जो खर्च एक मजदूर को देते हो वही मुझे दे दो,साथ मे अपनी जगह रहूंगी तो सेफ्टी भी रहेगी।

लड़की ने 300 रुपये रोजाना के हिसाब से वहीं काम शुरू कर दिया, लोहे को वेल्डिंग करके उपकरण बनाने का।

पंजाब की पहली वेल्डिंग गर्ल बनी। हाथ मे सफाई इतनी कि ट्रैंड लड़के भी उसके जैसा काम न कर सकते। वेल्डिंग की तेज रोशनी से आंखों से रोज पानी बहता, लोहे उठाने से हाथ काले पड़ जाते और दर्द करते,जुराबें गर्म होकर जूते के अंदर ही पेर से चिपक जाती पर ऐसी फसी होती कि उसे निकाल भी न पाती।
कई लड़की उसे देखकर दुकान पर काम सीखने आई पर वहां की मेहनत देखकर दोबारा मुड़कर उस शॉप पर नही गयी। हरपाल रोजाना सुबह जल्दी उठकर और शाम को सबसे बाद में काम छोड़ती। जितना काम दूसरा मजदूर एक दिन में करके देता उतने ही पैसे में वो दुगना काम पिता को करके देती वो भी एकदम सफाई से।

टिक टोक पर वीडियो बनाने शुरू किए। वो बन्द हुई तो इंस्टाग्राम पर अपने वेल्डिंग करते के वीडियो पोस्ट किए। लोगों को पता लगने लगा फिर एक पंजाबी चैनल ने इंटरव्यू किया तो पूरे पंजाब समेत विदेशों में भी लड़की की चर्चा होने लगी। भारत समेत इंग्लैंड कनाडा और यूरोप के अन्य देशों से भी लड़की के लिए रिश्ते आ रहे पर वो अपने देश की मिट्टी में रहकर ही काम करना चाहती है चाहे पैसे कम मिले।

इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर लाखों सब्सक्राइबर होने की वजह से हरियाणा पंजाब और राजस्थान से भी लोग कृषि उपकरण बनवाने के लिए आने लगे। दोनो जगह बेटी की वजह से भगवान सिंह धंजल की दुकान की कीर्ति पूरे भारत मे फेल गयी।

हरपाल कौर सबसे बड़ी है उससे छोटी की शादी कर दी गयी उससे छोटी पंजाब पुलिस में सेलेक्ट हो गयी। सबसे छोटी इसी के साथ दुकान पर काम करती है। बेटी की जी तोड़ मेहनत की वजह से आज पिता का व्यवसाय पहले से कई गुना बढ़ गया। लड़की के पास खुद का बैंक एकाउंट है खूब पैसे हैं पर फिर भी रोज जी तोड़ मेहनत करती है एक दिन दुकान पर मेले कुचैले कपड़ों और काले हाथों के साथ लोहे को वेल्ड कर रही होती है तो दूसरे दिन बुलेट पर चलती एक खूबसूरत परी जैसी दिखती है।

सोशल मीडिया पर इन्हें चन्द गालियां देने वाले लोग भी है जो कहते है 2 कोड़ी की नचनिया है पैसे के लिए नाचती है या दस मिनट काम करती है पर लाखों लोग इन्हें प्रेम देने वाले भी है 10-10 पिज्जा एक साथ अनजान लोग इनकी शॉप पर गिफ्ट्स भेज देते हैं बिना अपना नाम जाहिर किये।
आये दिन दुकान पर कोई न कोई गिफ्ट आता रहता है।

हमारे समाज मे ऐसी देवी जैसी लड़कियां भी हैं वो चाहती तो कब की शादी करके अपने लिए जीना शुरू कर देती। पर बेटे के भविष्य को देखकर फुंक फूंक कर कदम रखती है अणु शक्ति के दिये हुए टॉपिक तो ऐसी लड़कियों के मन मे ही नही आते, अभिभूत हो जाता हूँ ऐसी संघर्षरत जुझारू लड़कियों के जीवन के प्रति इतने जज्बे को देखकर !

साभार- https://www.facebook.com/YahiToShayriHai से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार