ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

धर्म पुरुष उद्योगपति श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया

धर्मपुरुषःउद्योगपति श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया का जन्मदिनःआज 21नवंबर को है। उनके जन्मदिन पर बहुत-बहुत बधाई तथा अनेकानेक शुभ कामनाएं। 09मई,1969 को स्थाई रुप से आईआरसी विलेज,नयापलीःएन-3-350 ,ओमनिवास,भुवनेश्वर में सपरिवार निवास करनेवाले श्री डालमिया एक संवेदनशील उद्योगपति हैं। वे निजी कंपनी गणेश स्पंज प्राइवेट लिमिटेड,अनुगुल(ओडिशा) के चेयरमैन हैं। उनके जीवन का लक्ष्य आजीवन आध्यात्मिक सेवा करते रहना ही है। निःस्वार्थ भाव से ईश्वरसेवा, मानवसेवा, गोसेवा,समाजसेवा और लोकसेवा ही उनकी वास्तविक पहचान है। वे किसी से कुछ लेते नहीं है,सिर्फ देते हैं। उनके सभी भाईःश्री नथमल डालमिया,श्री विमल डालमिया,श्री पवन डालमिया और श्री विजय डालमिया भी भुवनेश्वर में ही रहते हैं तथा अपने-अपने कारोबार तथा परिवार के साथ आनन्दमय गृहस्थजीवन व्यतीत करते हैं।

श्री डालमिया के सुपुत्र श्री विकाश कुमार डालमिया गणेश स्पंज प्राइवेट लिमिटेड,अनुगुल(ओडिशा) के एम.डी.(प्रबंधनिदेशक) हैं। श्री विकाश कुमार डालमिया का सुपुत्र आर्यमन डालमिया,ओमनिवास डालमिया-परिवार के कुलभूषण है। उद्योगपति श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया के अनुसार उनके जीवन की असाधारण कामयाबी के पीछे वर्षों की कठोर साधना,त्याग और तपस्या की अनगिनत दर्दभरी कहानियां हैं। उन्होंने बताया कि उनके पिताजी स्वर्गीय ओंकारमल डालमिया और माताजी स्वर्गीया रामप्यारी डालमिया का पैतृक आध्यात्मिक संस्कार उनको विरासत में बाल्यकाल से ही मिला है। ओमनिवास पर साल के 365दिन पूजा-पाठ,भजन-कीर्तन ,नानुसती दादी मां मंगलपाठ, होली, दीवाली, दशहरा,रामनवमी,श्रीकृष्णजन्माष्टमी,महाशिवरात्रि तथा आवला नवमी आदि समय-समय पर मनाया जाता है। श्री डालमिया अपने पैतृक प्रदेश हरियाणा के लुहारु,सुहासडा के देवी नानुसती दादी मां मंदिर के ट्रस्टी हैं जहां पर वे प्रतिवर्ष नानुसती दादी मां का विशाल मंगलपाठ का आयोजन कराते हैं।

प्रतिवर्ष अपने जन्मदिन पर पुरी जगन्नाथ मंदिर में जगन्नाथजी की पूजा करते हैं। ब्राह्मणों और सेवायतों को दिल खोलकर दान-दक्षिणा देते हैं। पुरी जगन्नाथ मंदिर के सामने बैठे हजारों भिखारियों,कुष्ठरोगियों,विधवाओं,पूजा की सामग्री आदि बेचनेवालों को भोजन कराते हैं। उन्हें वस्त्रदान तथा अर्थदान देते हैं। पुरी गोवर्द्धन पीठ के 145वें पीठाधीश्वर पुरी जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती महाभाग,पुरी के गजपति महाराजा श्री श्री दिव्यसिंहदेवजी महाराजा तथा ऋषिकेश के महामण्डलेश्वर उनके पूज्य गुरुदेव हैं। विश्वविख्यात रामायणी तथा रामकथा मर्मज्ञ संत मोरारी बापू उनके आध्यात्मिक जीवन के सच्चे मार्गदर्शक हैं। इसीलिए श्री डालमिया का ओमनिवास संतों का घर है,हिन्दुओं का पावन मंदिर है जहां पर प्रतिदिन भण्डारा चलती है तथा आतिथ्य-सत्कार होता है।

पुरी श्रद्धाबाली में श्री डालमिया ने 1990 के दशक में अतिवृहद विष्णु महायज्ञ कराया तथा पहली बार वहीं श्रद्धाबाली में जगतगुरु तथा गजपति महाराजा के दिव्य मार्गदर्शन में दिनांकः 09फरवरी,2012 से लेकर दिनांकः14फरवरी,2012 तक आयोजित श्री जगन्नाथ पंचरात्र महोत्सव के आयोजन में तथा ओडिया-हिन्दी मंत प्रकाशित सद्ग्रंथ के प्काशन आदि में पूर्ण आर्थिक सहयोग दिया था। पहली बार आयोजित उस संत समागम में कुल लगभग एक हजार संत-महात्माओं ने हिस्सा लिया था। यही नहीं,2015 नवकलेवर के दौरान श्री डालमिया ने वनयात्रा(29मार्च,2015) से लेकर रथयात्राः2015(18जुलाई,2015 तक) के आयोजन में अपनी ओर से सेवायतों की जिसप्रकार की सेवाएं उपलब्ध कराईं वह उनके जीवन को आध्यात्मिक जीवन की ओर और अधिक प्रेरित कर दिया। इसप्रकार श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया का अबतक का जीवन पूरी तरह से आध्यात्मिक जीवन है।

श्री डालमिया ने करोडों रुपये की लागत से अपनी ओर से पुरी गोवर्द्धन मठ के स्वागतकक्ष तथा नई पाकशाला का निर्माणकर बहुत बडा आध्यात्मिक कार्य किया है। इसीलिए आप पुरी गोवर्द्धन पीठ उन्नयन समिति के सदस्य,श्री शंकराचार्य गोवर्द्धन गोशाला ,गो-विज्ञान आयुर्वेद अनुसंधान केन्द्र के कार्यकारी अध्यक्ष हैं। भुवनेश्वर खण्डगिरि स्थित श्री शिवानन्द आश्रम के सदस्य,चिडावा नागरिक परिषद कोलकाता के आजीवन सदस्य हैं। अखिल भारतवर्षीय मारवाडी महासंघ के संरक्षक हैं। भुवनेश्वर,खण्डगिरि स्थित शिवानन्द सेंटेनरी ब्याज हाई स्कूल में आपने अपनी ओर से लाखों रुपये की लागत से योग केन्द्र बनवाया है। उपकारी तथा परोपकारी श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया ने अबतक अनेक स्कूल, कालेज, अनाथालय,अतिथिगृह,अस्पताल और गोशाला आदि के निर्माण में सहयोग दिया है। अपने द्वारा स्थापित चिडावा डालमिया स्कूल के लगभग एक सौ असहाय बच्चों के पठन-पाठन तथा उनके भरण-पोषण में श्री डालमिया आर्थिक सहयोग करते हैं।

श्री जगन्नाथ सेवा ट्रस्ट कोलकाता के ट्रस्टी तथा श्री कैलाश आश्रम ऋषिकेश के ट्रस्टी श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया श्री अग्रसेन भवन चिडावा के निर्माण में भी आर्थिक सहयोग प्रदान किये हैं।वे पहली बार प्रयागराज कुम्भ मेले में श्री जगन्नाथ संस्कृति के प्रचार-प्रसार में सहयोग दिया है।

श्री सुरेन्द्र कुमार डालमिया शतायु हों, मेरी यही कामना है।

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Get in Touch

Back to Top