Monday, May 20, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोहनुमान चालीसा का जाप कर बगैर बेहोश हुए ऑप्रेशन कराया

हनुमान चालीसा का जाप कर बगैर बेहोश हुए ऑप्रेशन कराया

अमूनन ऑपरेशन थियेटर (Operation Theater) में मरीज और डॉक्टरों की ऑपरेशन सफल न होने तक सांसे अटकी रहती है. लेकिन राजधानी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS Delhi) में एक चमत्कार देखने को मिला. जहां एक लड़की की पूरी तरह बेहोश किए बिना ही ब्रेन ट्यूमर की सफल सर्जरी (Brain Tumor Surgery) की गई. इसमें खास बात ये रही कि महिला मरीज सर्जरी के दौरान हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ भी करती रही.

एम्स की न्यूरो एनेस्थेटिक टीम (Neuro Anaesthetic) के नाम एक बड़ी सफलता लगी है. जहां 24 साल की एक स्कूल टीचर, जिसके मस्तिष्क के बाईं ओर बने बड़े ब्रेन ट्यूमर (ग्लियोमा) की सर्जरी होनी थी. अमूनन सर्जरी के दौरान मरीज को बेहोश रखा जाता है लेकिन इस महिला मरीज की सर्जरी पूरे होश में की गई. सर्जरी के दौरान महिला मरीज न सिर्फ पूरी तरह होश में रही, बल्कि ऑपरेशन टेबल पर ही वह खुद ही प्रार्थना करते हुए हनुमान चालीसा का पाठ भी करती रही.

लड़की के इस साहस को देख ऑपरेशन कर रहे डॉक्टर भी हैरान थे. मरीज की इस हिम्मत का ऑपरेशन थियेटर में मौजूद किसी सदस्य ने इसका वीडियो बना लिया. जिसके बाद ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. यही नहीं बाताया जा रहा है कि सर्जरी के बाद उसने अपने बालों में शैम्पू किया. इसके बाद ऑपरेशन थियेटरस से मुस्कुराते हुए बाहर निकली. वहीं लड़की की इस हिम्मत और साहस की हर कोई दाद दे रहा है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टर ने बताया कि यह इसलिए किया गया ताकि सर्जरी के दौरान ब्रेन का वह हिस्सा जो आवाज को नियंत्रित करता है वह डैमेज न हो. इस वजह से उनका लगातार हनुमान चालीसा पढ़ते रहना काफी मददगार रहा. डॉक्टर ने कहा कि हमने ध्यान से ऑपरेशन किया जो सफल रहा और ट्यूमर निकाल दिया गया.’

राजस्थान के बीकानेर में भी इसी तरह का मामला सामने आ चुका है, जहां एक शख्स की ब्रेन ट्यूमर की सर्जरी होनी थी. बीकानेर के डूंगरगढ़ निवासी 30 साल के अकाउंटेंट पहले काफी घबराए हुए थे, जब डॉक्टरों ने उन्हें बिना बेहोश किए ब्रेन सर्जरी करने की सलाह दी. बाद में डॉक्टरों के काफी सुझाव देने के बाद वह मान गए. उन्हें लोकल ऐनिस्थीसिया दिया गया ताकि उन्हें शारीरिक असहजता या दर्द न महसूस हो. इसके बाद उनका सफल ऑपरेशन किया गया. इस दौरान वे भी हनुमान चालिसा का जाप करते रहे.

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार