Saturday, July 20, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोराष्ट्रीय जनसंपर्क दिवस पर डॉ.प्रभात सिंघल का सम्मान

राष्ट्रीय जनसंपर्क दिवस पर डॉ.प्रभात सिंघल का सम्मान

कोटा/ राष्ट्रीय जनसंपर्क दिवस पर शुक्रवार को कोटा में स्वयंसेवी संस्था कृष्णा मानव विकास संस्थान द्वारा सक्रिय जनसंपर्क कर्मी और राजस्थान के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के पूर्व संयुक्त निदेशक डॉ.प्रभात कुमार सिंघल का माल्यार्पण कर सम्मान किया गया। संस्था के संरक्षक के. डी.अब्बासी और अध्यक्ष आशा देवी मल्लाह ने माल्यार्पण कर उनका स्वागत किया।

जनसंपर्क कर्मी के सम्मान पर जयपुर के पूर्व आई. ए. एस. डॉ.धर्मेंद्र भटनागर ने कहा कि सिंघल ने सकारात्मक विचारों और आत्मविश्वास के साथ रचनात्मक कार्य करने वाले जनसंपर्क कर्मी की पहचान बनाई है। पूर्व आई. ए. एस.आर.सी.जैन ने कहा कि श्री सिंघल व्यक्तिगत स्तर पर भी सबका सहयोग करते हैं तथा मैने कभी उन्हें तनाव में नहीं देखा। उनके चेहरे की मुस्कराहट उनके सम्पर्क में आने वालों को सदैव याद रहती हैं। वे अपने कार्य में तो दक्ष हैं ही, साहित्य सृजन में भी अग्रणीय है।

पूर्व जनसंपर्क कर्मी राजकुमार पारीख ने कहा इनकी शानदार सेवाओं का जितना सम्मान हो, कम है। झालावाड़ के इतिहासकार ललित शर्मा ने कहा जन सम्पर्क भारतीय समाज का एक ऐसा दर्पण है जिसके माध्यम से हम समाज की नीति के आयामों को जान कर अपना जीवन उत्थान कर सकते हैं। डा.सिंघल ने इसी के माध्यम को अपने जीवन में सार्थक रूप से अपनाया।

कथाकार और समीक्षक विजय जोशी ने कहा कि डॉ. सिंघल “पर्यटन लेखक” के रूप में तो विख्यात हैं ही एक लोकप्रिय जनसंपर्क कर्मी भी हैं। आप अपने शोधात्मक और रचनात्मक लेखन से राजस्थान ही नहीं भारत देश की कला, संस्कृति और पर्यटन सन्दर्भों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचारित करने का दिशाबोधक प्रयास कर रहे हैं। कोटा जनसंपर्क विभाग के उप निदेशक हरिओम गुर्जर, मंडल पुस्तकालय अधीक्षक डॉ.दीपक कुमार श्रीवास्तव सहित कई अधिकारियों, जनसंपर्क कर्मियों, साहित्यकारों, इतिहासकारों और मीडिया कर्मियों ने उन्हें इस सम्मान के लिए बधाइयां प्रेषित की हैं।
——–

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार