Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeहिन्दी जगतकोटा के साहित्यकार जितेन्द्र ' निर्मोही ' को अमराव देवी पहाड़िया स्मृति...

कोटा के साहित्यकार जितेन्द्र ‘ निर्मोही ‘ को अमराव देवी पहाड़िया स्मृति राजस्थानी गद्य पुरस्कार

कोटा/ राजस्थान में कोटा के वरिष्ठ साहित्यकार जितेन्द्र ‘ निर्मोही ‘ को “अमराव देवी पहाड़िया स्मृति राजस्थानी गद्य पुरस्कार 2024 ” से रविवार 9 जून को डेह नागौर में सम्मानित किया गया। इनको सम्मान स्वरूप ग्यारह हजार रुपए नकद, शाल,श्रीफल सम्मान पत्र दिया जाकर समादृत किया गया। इनके साथ ही हाड़ौती अंचल से सी. एल. सांखला, हरिचरण अहरवाल को पुरस्कृत कर समादृत किया गया।

समारोह की मुख्य अतिथि मंजु बाघमार राज्य सरकार थी। पुलिस सेवा विमर्श राजस्थान सरकार अध्यक्ष एच. के. कुडी थे। मंच पर लक्ष्मण दान कविया, कार्यक्रम संयोजक पवन पहाडिया विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर जहूर खां मेहर उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ. गजानन चारण द्वारा किया गया।

उल्लेखनीय है कि जितेंद्र ‘ निर्मोही ‘ ने न केवल साहित्य की विभिन्न विधाओं में विगत कई वर्षों से लेखन कर साहित्य जगत में स्वयं को स्थापित किया वरन आज अनेक साहित्यकार इनके मार्ग दर्शन की वजह से साहित्य के क्षेत्र में हैं और सृजन कर रहे हैं। इनके साहित्य पर कई शोध हो चुके हैं और वर्तमान में भी हो रहे हैं। इनकी प्रेरणा से साहित्य में कई नए प्रयोगात्मक लेखन कार्य हो रहे हैं। इनके समाजोपयोगी सृजन के लिए देश की अनेक प्रतिष्ठित साहित्यिक संस्थाओं द्वारा इन्हें सम्मानित किया जा चुका है। आज हाड़ोती के साहित्य जगत की ये अनमोल धरोहर हैं, कहें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।
————

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार