ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

आयुष्मान योजना में अपना पंजीयन ऐसे कराएँ

आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के 10 करोड़ से अधिक परिवारों के लगभग 50 करोड़ लोगों को सालाना 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करा रही है। भारत सरकार स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा संचालित प्रधानमंत्री जन आरोग्य आयुष्मान भारत योजना के पंजीयन की प्रक्रिया जिले के सभी कॉमन सर्विस सेंटरों द्वारा शुरू की गई है।

इसमें आधार ई केवाईसी के माध्यम से पात्र हितग्राहियों के पंजीयन कर गोल्डन कार्ड प्रदान किया जा रहा है। इंदौर जिले के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में संचालित केंद्रों पर जाकर नागरिक अपनी पात्रता की जांच कर सकते हैं। आयुष्मान गोल्डन कार्ड पंजीयन के लिए निर्धारित गाइडलाइन सरकार द्वारा बनाई गई है।

कैसे चेक करें अपना नाम : स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मध्य हुए समझौते के तहत देश के तीन लाख कॉमन सर्विस केन्द्रों पर पात्रता जांच और पंजीयन की सुविधा उपलब्ध की जा रही है। योजना को संचालित करने वाली नेशनल हेल्थ एजेंसी ने एक वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर लांच किया है, जिसके जरिए कोई भी यह जांच सकता है कि लाभार्थियों की फाइनल लिस्ट में उसका नाम शामिल है या नहीं। लिस्ट में अपना नाम जांचने के लिए वेबसाइट mera.pmjay.gov.in देख सकते हैं या हेल्पलाइन नंबर 14555 पर कॉल कर सकते हैं।

कैसे करें क्लेम :
सरकार के पैनल में शामिल हर अस्पताल में आयुष्मान मित्र हेल्प डेस्क होगा। वहां लाभार्थी अपनी पात्रता को डॉक्यूमेंट्स के जरिए वेरिफाई कर सकेगा। इलाज के लिए किसी स्पेशल कार्ड की जरूरत नहीं पड़ेगी। सिर्फ लाभार्थी को अपनी पहचान स्थापित करना होगी। पात्र लाभार्थी को इलाज के लिए अस्पताल को एक पैसे भी नहीं देने होंगे। इलाज पूरी पेपरलेस और कैशलैस होगी।

किन बीमारियों का होगा इलाज :
इसमें इलाज के कुल एक हजार 354 पैकेज हैं, जिसमें कैंसर सर्जरी और कीमोथैरेपी, रेडिएशन थैरेपी, हार्ट बायपास सर्जरी, न्यूरो सर्जरी, रीढ़ की सर्जरी, दांतों की सर्जरी, आंखों की सर्जरी और एमआईआई, सीटी स्कैन जैसे जांच शामिल हैं।

क्या आधार कार्ड है जरूरी :
इस स्कीम का फायदा उठाने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य नहीं है। इसमें बस अपनी पहचान स्थापित करना होगी, जिसे समग्र आईडी या आधार कार्ड या मतदाता पहचान पत्र या राशन कार्ड जैसे पहचान पत्रों से स्थापित कर सकते हैं।

क्या इसमें किसी प्रकार का शुल्क लगता है : पात्रता जांच एवं पंजीयन पूर्णता नि:शुल्क है। केवल नॉन हास्पिटल वाले पात्र हितग्राही कॉमन सर्विस सेंटर केंद्रों द्वारा गोल्डन कार्ड का निर्धारित शुल्क 30 रुपए लिया जाएगा। योजना के तहत यदि परिवार पात्र है तो परिवार के सभी सदस्यों का अलग-अलग पंजीयन एवं कार्ड बनेगा।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top