आप यहाँ है :

अफसरों की नहीं, आम यात्रियों की सुनी प्रभु जी ने

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इंडियन रेलवे कैटरिग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) के फैसले पर रोक लगा दी है। इससे यात्रियों को एक आईडी से पहले की तरह महीनेभर में दस टिकट मिलेंगे। रेल मंत्री ने यह फैसला छात्र-कारोबारियों के दर्द बयां करने के बाद लिया है।

आईआरसीटीसी ने एक मेल आइडी से एक महीने में दस के बजाय छह टिकट देने का फैसला लिया था, लेकिन रेल सफर करने वाले छात्र-कारोबारियों ने आईआरसीटीसी के फैसले का विरोध किया।

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के छात्र मयंक गुप्ता समेत दर्जनभर छात्र-कारोबारियों ने परीक्षा एवं कारोबार के सिलसिले में कभी-कभी 10 से अधिक यात्रा करने की बात कही। बोले, कोई भी यात्री टिकट बुकिंग का रुपये जमा करता है।

अगर जरूरत नहीं होगी, तो बुकिंग क्यों कराएगा। मगर चंद दलालों के चक्कर में लाखों छात्र-कारोबारियों को दिक्कत हो जाएगी। छात्र-कारोबारियों की ट्विटर पर आने वाली शिकायतों को रेल मंत्री ने गंभीरता से लिया। इसीलिए 15 फरवरी से एक आइडी पर एक महीने में छह टिकट बुकिंग पर रोक लगा दी गई है। रेल मंत्री ने रेलवे बोर्ड के कॉमर्शियल विभाग से रिपोर्ट तलब की है। इसके बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top