ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

पंकज गुप्ता ने किया 9वीं बार प्लाज्मा डोनेशन ,बचाई 18 जिंदगियां

कोटा शहर में कोरोना महामारी का आलम किसी से झुपा नहीं हैं, हर तरफ कोहराम मचा हुआ है, लोग अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन शहर में कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो दूसरों की जान बचाने के लिए अपनी जान को भी दाव पर लगाए हुए हैं, ऐसा ही एक नाम हैं पंकज गुप्ता का। भगत सिंह कॉलोनी निवासी स्टार हेल्थ इंश्योरेंस कम्पनी में एरिया मैनेजर पंकज गुप्ता (46) ए पॉजिटिव ने शनिवार को 9वीं बार प्लाज्मा डोनेशन किया और अब तक 18 जिंदगियों को जीवनदान देने का प्रयास किया। राजस्थान में ये पहला मामला है, जब किसी ने 9 बार प्लाज्मा डोनेशन किया हो, साथ ही देश में भी कहीं ऐसा कोई उदाहरण संभवतया सामने नहीं आया जब किसी में लगातार इतनी एंटीबॉडी बनी हो।

पंकज गुप्ता ने प्लाज्मा डोनेशन करने के चलते अब तक वैक्सीन भी नहीं लगवाई है। पंकज का कहना है कि जब तक एंटीबॉडी आती रहेगी में प्लाज्मा का दान करता रहूंगा, ताकी लोगों की जिंदगियां बचती रहे। टीम जीवनदाता के संयोजक व लायंस क्लब के जोन चेयरमैन भुवनेश गुप्ता ने बताया कि कोरोना काल में सैकडों डोनर्स आए और अपने कर्तव्य का पालन कर चले गए, लेकिन पंकज गुप्ता ने मरीज के पीड़ा को हर पल मन में जगाए रखा और निरंतर उनके मसीहा बने। भुवनेश गुप्ता ने कहा कि वह अनगिनत बार एसडीपी व ब्लड डोनेशन भी कर चुके हैं। इस अवसर पर कोटा दक्षिण के उप महापौर पवन मीणा ने कहा कि कोटा में पंकज गुप्ता जैसे लोग और टीम जीवनदाता जैसी संस्थाएं हो तो, हम सभी को साथ लेकर कोटा में कोरोना की जंग को जीत जाएंगे।

वहीं कोटडी गोर्धनपुरा निवासी मनीष सरोंजा (39) बी पॉजिटिव ने चौथी बार प्लाज्मा डोनेशन किया। सरोंजा ने कहा कि हमारे परिवार में आठ लोग पॉजिटिव थे, ऐसे में हम मरीज व उनके परिजनों के हालातों को समझते हैं, हमारे परिवार का पूरा प्रयास रहेगा की जरूरतमंदों की मदद हो सके। इस दौरान सीए मनीष माहेश्वरी, वर्धमान जैन, मोहित दाधिच, प्रतीक अग्रवाल का विशेष सहयोग रहा।

भुवनेश गुप्ता ने बताया कि कोरोना वारियर्स के रूप में चिकित्सक, सफाईकर्मी व अन्य अपनी जान जोखिम में डालकर अपने कर्म को कर रहे हैं। हमे भी अपना कर्म करना चाहिए, और जहां भी जैसी भी मदद कर सकते हो करनी चाहिए। जो लोग कोरोना से ठीक हुए हैं, उन्हें मरीज को बचाने के लिए आगे आना चाहिए। एक जीवन भी किसी ने बचाया तो आपका जीवन धन्य हो जाएगा।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं व राजस्थान जनसंपर्क के सेवना निवृत्त अधिकारी हैं)
Attachments area

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top