Friday, June 21, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोझालवाड़ के सौरभ सोनी ने सबसे अधिक 73 वाद्य यंत्र बजाने का...

झालवाड़ के सौरभ सोनी ने सबसे अधिक 73 वाद्य यंत्र बजाने का रिकॉर्ड बनाया

झालावाड़ के सौरभ सोनी के लिए आज का दिन खुशियां ले कर आया जब उसका प्रयास सफल हुआ और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड की बुक के पेज नंबर 218 पर सबसे अधिक 72 वाद्य यंत्र बजाने का रिकॉर्ड प्रकाशित हो गया है। उसने इस खुशी को अपने माता-पिता गुरुजन के चरणों में और समस्त शुभचिंतक मित्रों को समर्पित किया है। उन्होंने 72 संगीत वाद्ययंत्र बजाने के लिए उन्हें पहचानने के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में आवेदन किया था।

उल्लेखनीय है कि सौरभ का नाम वर्ष 2022 में 61 वाद्य यंत्र बजाने के कारण उनका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया था और 26 जनवरी को उन्हें एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज किया गया था। 67 संगीत वाद्ययंत्र बजाने के लिए उनका नाम गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया गया था। उन्हें कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है, जैसे हाड़ौती गौरव सम्मान, राज्य पुरस्कार आदि।

सौरभ सोनी राजस्थान के झालावाड़ में अनुसूया सिंघानिया एजुकेशनल एकेडमी में संगीत के लेक्चरर हैं।अपने बचपन को याद करते हुए सौरभ कहते हैं कि उन्होंने बचपन से ही अपने घर में संगीत के माहौल का लुत्फ उठाया था। उसके माता-पिता अंधे हैं। विकलांग होने के बावजूद उनके पिता हारमोनियम, ढोलक, तबला और बांसुरी बजाते थे। उनका पालन-पोषण ऐसे संगीतमय वातावरण में हुआ कि स्वाभाविक रूप से उनकी संगीत में रुचि पैदा हो गई।

अपनी यात्रा के बारे में बात करते हुए, सौरभ कहते हैं कि उन्होंने अपने पिता से वाद्ययंत्र बजाना सीखकर अपनी संगीत यात्रा शुरू की। उन्होंने पांच साल की उम्र में हारमोनियम, तबला और ढोलक का अभ्यास करना शुरू किया और उनके पिता ने 2010 में उन्हें एक सरकारी संगीत विद्यालय में दाखिला दिलाया। उन्होंने सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक संगीत का अभ्यास किया। तीन साल तक रोजाना। उन्होंने भातखंडे विद्यापीठ, लखनऊ से संगीत विशारद की डिग्री पूरी की। धीरे-धीरे, वर्ष 2011 में, उन्होंने संगीत सिखाना शुरू किया और अब उनके छात्र राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

सौरभ ने साझा किया कि उन्होंने संगीत पर गहन शोध किया और उन्हें पता चला कि गंधर्व वेद में लिखा है कि भारतीय शास्त्रीय संगीत की मदद से कांच में कंपन पैदा किया जा सकता है, कमरे के तापमान को नियंत्रित किया जा सकता है, अवसाद की समस्या का समाधान किया जा सकता है। , और भी बहुत कुछ। वह इसकी प्रैक्टिस भी कर रहे हैं और फिलहाल डिप्रेशन के तीन मरीजों का इलाज कर रहे हैं।

सौरभ कहते हैं कि उन्होंने संगीत के क्षेत्र में कुछ नहीं बनाया क्योंकि उन्होंने हमेशा अपने शिक्षकों के निर्देशों का पालन किया और अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश की। निजी जीवन के मामले में, उन्होंने अपनी कमजोर दृष्टि के कारण शिक्षा में बहुत कुछ हासिल नहीं किया।

अपने खाली समय में, सौरभ को संगीत वाद्ययंत्र बजाना और गाना पसंद है। सौरभ के रोल मॉडल उनके पिता हैं, जिन्होंने हमेशा उन्हें संगीत के प्रति अपने जुनून का पालन करने के लिए प्रेरित किया। सौरभ का जीवन मंत्र जीवन में कुछ भी हासिल करने के लिए अभ्यास करते रहना है। सौरभ युवा पीढ़ी को भारतीय शास्त्रीय संगीत सीखने पर अधिक ध्यान देने की सलाह देते हैं और सोचते हैं कि उन्हें इसे दुनिया भर में फैलाने पर ध्यान देना चाहिए।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार