Saturday, June 15, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोअसम के मुख्यमंत्री ने अतिक्रमण हटाकर 5 हजार वर्ष पुराने शिव...

असम के मुख्यमंत्री ने अतिक्रमण हटाकर 5 हजार वर्ष पुराने शिव मंदिर का पुनर्निर्माण करवाया

असम के दरांग जिले में मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने सोमवार (5 जून, 2023) को 5000 साल पुराने ऐतिहासिक शिव मंदिर का उद्घाटन किया। इस मंदिर को अतिक्रमण मुक्त कराकर इसे नए सिरे से बनवाया गया है। इस मौके पर सीएम सरमा ने कहा है कि इस मंदिर में आकर उन्हें स्वर्ग जैसी अनुभूति हो रही है।

दरांग जिले के सिझापार इलाके के धौलपुर में स्थित भगवान भोलेनाथ के इस मंदिर के उद्घाटन करते हुए सीएम हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है, “मुझे धौलपुर में ऐतिहासिक शिव मंदिर के साथ एक गेस्ट हाउस और पुजारी गृह का उद्घाटन करने का मौका मिला। इसके लिए मैं खुद को धन्य समझता हूँ।”_*

सीएम सरमा ने भी कहा है कि असम के श्रद्धालुओं को इस शिव मंदिर में आने-जाने में समस्या न हो इसके लिए धौलपुर में बेहतरीन सड़कों का निर्माण कराया जाएगा। चूँकि यह क्षेत्र बाढ़ प्रभावित है, इसलिए बार-बार आने वाली बाढ़ से धौलपुर के बचाने के लिए बाँध भी बनाया जाएगा। साथ ही मंदिर को लेकर जिस प्रकार की समस्याएँ सामने आएँगी उनका हर संभव निराकरण किया जाएगा।

वहीं, मंदिर के उद्घाटन के बाद सीएम हिमंता बिस्वा सरमा ने एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, “गरुखुटी में अतिक्रमण के दौरान हमने प्रण लिया था कि हम वहाँ के 5000 वर्ष प्राचीन शिवालय को अपनी पुरानी महिमा में लाने का प्रयास करेंगे। आज इस कार्य को भोलेनाथ के चरणों में समर्पित किया। महादेव के आशीर्वाद और सभी के सहयोग से, गरुखुटी अपनी प्राचीन विरासत को पुनः प्राप्त कर रही है।”_*

चूँकि, मंदिर के उद्घाटन के साथ ही रविवार (5 जून, 2023) को पर्यावरण दिवस भी था। ऐसे में मुख्यमंत्री सरमा ने मंदिर प्रांगण में वृक्षारोपण भी किया। साथ ही उन्होंने कहा कि असम सरकार आने वाली पीढ़ियों के लिए एक स्वच्छ और हरित वातावरण सुनिश्चित करने की दिशा में लगातार काम कर रही है।_*

गौरतलब है कि असम के मुख्यमंत्री बनने के बाद 7 जून, 2021 को पहली बार धौलपुर पहुँचे सीएम सरमा ने इस प्राचीन मंदिर के पुनर्निर्माण कराने का ऐलान किया था। इसी के तहत इस मंदिर को फिर से बनाया गया और अब सीएम सरमा ने खुद ही इसका उद्घाटन किया।_*

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार