आप यहाँ है :

दमोह की शिवांगी ने स्कूटर को बना दिया एंबुलेंस

दमोह(मध्‍यप्रदेश)। मुसीबत में मदद करने के बजाय आम तौर पर लोग रास्ता बदल लेते हैं, लेकिन दमोह की एक युवती दूसरों की मदद करने में मिसाल कायम कर रही है। शहर के इंदिरा कॉलोनी की शिवांगी बिदौल्या बीमार लोगों के फोन आते ही उन्हें अपनी टू व्‍हीलर से न सिर्फ अस्पताल पहुंचाती है, बल्कि जरूरतमंदों के इलाज का खर्चा भी देती है। उसने अपनी गाड़ी में सरकारी एम्बुलेंस संजीवनी की तरह 108 लिखवा रखा है। केएन कॉलेज में बीएससी की छात्रा शिवांगी पिछले आठ माह में 25 लोगों को अस्पताल पहुंचाकर उनका इलाज करवा चुकी है।

दो हादसों ने बदल दी सोच

शिवांगी का कहना है कि पिछले साल सितंबर में वह अपनी बुआ की बेटी के साथ बाजार जा रही थी। उसी समय एक वाहन ने उसकी बहन को पीछे से टक्कर मार दी लेकिन तब कोई मदद को नहीं आया। इसी समय उसकी दादी को अटैक आया था। घर में कोई नहीं था। किसी ने मदद भी नहीं की। वह अकेले ही उन्हें अस्पताल लेकर पहुंची और इलाज कराया।

बस इसी के बाद उसने ये संकल्प लिया कि वह ऐसे जरूरतमंदों की इलाज के लिए मदद करेगी। इसके बाद शिवांगी ने टू व्‍हीलर में बड़े अक्षरों में 108 लिखवाया और पड़ोस समेत बटियागढ़ के पास सढ़िया गांव में लोगों को बताया कि यदि कभी कोई बीमार होता है और मदद के लिए कोई न हो तो उसे फोन लगाएं। यदि किसी को कोई तकलीफ होती है और वे दमोह आते हैं तो वह उन्हें स्टैंड से लेकर अस्पताल जाती है और उनका इलाज कराती है।

कई बन गए प्रशंसक

शिवांगी के अनुसार शुरू-शुरू में जब किसी को लेकर अस्पताल पहुंचती थी तो कुछ परेशानी होती थी, लेकिन अब कई डॉक्टर उसे जानने लगे हैं। उसके द्वारा लाए गए मरीज को डॉक्टर पूरी गंभीरता से देखते हैं।

पापा करते हैं मदद

शिवांगी ने बताया कि उसके पापा कैलाश बिदोल्या डीईओ ऑफिस में अकाउंटेंट के पद पर कार्यरत हैं। उन्हें पता है कि मैं क्या करती हूं, इसलिए वह मेरी मदद करते हैं। मेरे पापा का कहना है कि हमेशा जरूरतमंदों की मदद करना चाहिए। मेरी स्कूटी के पेट्रोल का खर्च मेरे पापा देते हैं।

सराहनीय काम कर रही शिवांगी

शिवांगी कई बार लोगों को इलाज के लिए अस्पताल लेकर आती है। मुझे ये नहीं मालमू था कि वह इस तरह लोगों की मदद करती है। उसने कभी बताया भी नहीं। अभी जानकारी मिल रही है। शिवांगी वाकई सराहनीय काम कर रही है। डॉक्टर राजेश नामदेव, जिला अस्पताल, दमोह

– 

साभार- दैनिक नईदुनिया से 

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top