Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeपर्यटनम.प्र. पर्यटन की अनूठी पहल

म.प्र. पर्यटन की अनूठी पहल

पर्यटन विकास निगम अब प्रदेश के विधायक और सांसदों को प्रिवलेज कार्ड देगा। इस कार्ड से प्रदेश में पर्यटन निगम के किसी भी होटल में एक रात-दो दिन मुफ्त रूकने की सुविधा मिलेगी। इसके अतिरिक्त रूकने पर होटल में लागू रूम टेरिफ पर 20 प्रतिशत और खान-पान पर 15 प्रतिशत की छूट मिलेगी। हाल ही में राज्य मंत्री सुरेन्द्र पटवा की अध्यक्षता में हुई पर्यटन निगम की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। बैठक में निगम की बिगड़ती माली हालात पर भी चिंता व्यक्त की गई।

पर्यटन निगम के एमडी अश्विन लोहानी ने बताया कि केन्द्र सरकार की पीआईडीडीसी योजना बंद होने के कारण पर्यटन निगम में होने वाले सभी कार्य रूक गए हैं। राज्यमंत्री पटवा ने ठेकेदारों के भुगतान समय पर न किए जाने को लेकर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि इससे निगम की छवि खराब हो रही है। पटवा ने यहां तक कहा कि ठेकेदारों के लंबित भुगतान के लिए निगम की एफडी तोड़ दो और इसमें जमा 72 करोड़ की राशि से निगम में काम-काज पहले की तरह शुय कराया जाए।

निगम के यूनिटों का कराएं ऑडिट

राज्य मंत्री ने कहा कि पर्यटन निगम की विभिन्न् यूनिटों (होटल, रेस्टारेंट और ढाबे) के आय-व्यय का विश्लेषण करने के लिए इंटरनल ऑडिट कराया जाए। जिससे पता चले कि कौन सी इकाई फायदे में है कौन सी घाटे में। राज्यमंत्री ने कहा कि जो यूनिट लगातार घाटे में चल रही है उसे पीपीपी मोड लायसेंस देकर संचालित किया जाए। बैठक में डोडी के नए रेस्टारेंट, भोपाल के रेनबोट्रीट और बाज एडवेंचर जोन, पचमढ़ी के वूडलैंड, उज्जैन के उज्जैनी रेस्टारेंट को पीपीपी मोड पर लायसेंस दिए जाने पर सहमति बनी।

प्रिवलेज कार्ड कम बनने पर जताई नाराजगी

राज्यमंत्री पटवा ने प्रिवलेज कार्ड की योजना फरवरी में शुरू होने के बाद से अब तक मात्र 73 कार्ड बनने पर नाराजगी जाहिर की । उन्होंने कहा कि इसका प्रचार-प्रसार कर लोगों को इसके फायदे बताए जाएं। जिससे हमारे होटलों में ज्यादा से ज्यादा पर्यटक आएं। उल्लेखनीय है कि पर्यटन निगम ने प्रिवलेज कार्ड मेंबरशिप शुरू की थी । इसमें 5000 स्र्पए में दो वर्ष तक के लिए यह कार्ड दिया जाता है। इसमें एक रात-दो दिन किसी भी पर्यटन के होटल में ठहरने सहित खान-पान मुफ्त रहेगा। इसके बाद होटल में ठहरने पर 20 प्रतिशत और खान-पान पर 15 प्रतिशत डिस्काउंट मिलेगा।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार