आप यहाँ है :

वनवासी बहनें आगे आई चीनी राखियों को टक्कर देने

मुंबई। केशव सृष्टि – ग्राम विकास योजना पालघर जिल्हे में, ७५ वनवासी गाँवों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए पिछले ३ वर्षो से कार्यरत है। ग्रामीण वनवासी बहनों को कुटीर उद्योग द्वारा सक्षम बनाना भी अपने कार्य का एक अंग है। इसी कड़ी में “प्रोजेक्ट ग्रीन गोल्ड” के माध्यम से हमने पालघर जिल्हे के विक्रमगढ़ तालुका में, ३०० वनवासी महिलाओं को बाम्बू हस्तकला प्रशिक्षण प्रदान किया है। इस प्रकल्प में कुल ९ गाव शामिल है, जिनके स्वतंत्र रूप से चलने वाले १० उद्योग समूह बने है।

इस वर्ष रक्षाबंधन के अवसर पर वनवासी बहनों ने ५०,००० बाँस की राखियां बनाई है। ये राखियाँ चीन से निर्यात हो रही राखियों को करारा जवाब है। उत्कृष्ट दर्जे की यह राखियां सिर्फ २५ रुपये के दाम में मिलेगी ।

संपर्क
श्री युवराज वाढ़वल
+919892413285
श्री सूरज ठाकुर जी
+917021419266

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top