Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeहिन्दी जगतयशवंत कोठारी और उनका व्यंग्य-संसार

यशवंत कोठारी और उनका व्यंग्य-संसार

राजस्थान के व्यंग्य-लेखकों में एक चर्चित नाम है यशवंत कोठरी। बहुत पहले 1969 और 1972 के बीच प्रभु श्रीनाथजी की नगरी नाथद्वारा में मेरे विद्यार्थी रहे। खूब लिखा, खूब छपे और खूब नाम कमाया। जब उन्हें यह मालूम पड़ा कि मैं इन दिनों बैंगलोर में हूँ,तो व्यस्तता के बावजूद मिलने चले आए। बैंगलोर जैसे व्यस्त,कोलाहल-भरे और ट्रैफिक-जामों के लिए कुख्यात महानगर में किसी से मिलना बहुत बड़ी बात है। मगर उन्होंने समय निकाला और अपनी नव-प्रकाशित पुस्तक लेकर मिलने चले आये।अच्छा लगा और लगभग पचास साल पहले की यादें ताज़ा हुईं।नाथद्वारा की बातें,गुरुजनों की बातें, शिष्यों-सहयोगियों की बातें आदि-आदि। यशवंतजी की लगभग बीस पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। जितने सम्मान और पुरस्कार इन्हें मिले हैं,उतने ही विनम्र और मृदुभाषी भी हैं। व्यंग्य-लेखन के बारे में यशवंत जी से बात की,तो वे बोले:

“व्यंग्यकार कोई समाज-सुधारक, साधु-संत या महात्मा नहीं होता है। वह जीवन की अनिवार्यता है, आवश्यकता है।राजनीति, विशेषकर पारिवारिक राजनीति में हर व्यक्ति को व्यंग्य की प्रभावोत्पादकता से दो-चार होना पड़ता है। व्यंग्य वह तिलमिलाहट है, जो आपके अंदर तक छेदकर आर-पार निकलने की क्षमता रखता है। व्यंग्य जीवन की आक्रमकता है, सहिष्णुता नहीं। व्यंग्य तो शल्यक्रिया है जो जीवन को बचाने के लिए आवश्यक है। व्यंग्य समीक्षा नहीं, फकत वह तो सहभागिता करता है। जीवन के हर मोड़ पर व्यंग्य आपको अपने साथ खड़ा मिलेगा— ठीक प्रकृति की तरह, जिजीविषा की तरह।“

ऐसे विचारशील और ख्यातिवान शिष्य पर गुरु का गर्वित होना स्वाभाविक है।

डॉ. शिबन कृष्ण रैणा
2/537 Aravali Vihar(Alwar)
Rajasthan 301001
whatsapp No. +918209074186

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार