आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • भारत में हिंदू-मुस्लिम संबंधों में तनाव क्यों?

    भारत में हिंदू-मुस्लिम संबंधों में तनाव क्यों?

    पाकिस्तान में अल्पसंख्यक ही नहीं, इस्लामी समाज से 'निष्कासित' अहमदी मुस्लिम समाज भी मजहबी यातना झेल रहा है। पिछले दिनों कट्टरपंथी मुसलमानों ने इस समुदाय के 16 कब्रों के साथ बेअदबी कर दी।

  • गुरु बिन ज्ञान न उपजै

    गुरु बिन ज्ञान न उपजै

    गुरु कौन होता है? 'गु' शब्द का अर्थ है अंधकार एवं 'रु' शब्द का अर्थ है प्रकाश। अर्थात जो अज्ञान रूपी अंधकार को मिटाकर ज्ञान का प्रकाश फैलाए, वही गुरु है। मनुस्मृति में गुरु की परिभाषा इस प्रकार दी गई है-

  • यह फैसला देश के लिए नजीर बनेगा

    मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान मध्यप्रदेश से अपराधों को जड़ से समाप्त करने के लिए कृत-संकल्पित हैं लेकिन इतने बड़े प्रदेश से अपराधों को नेस्तनाबूद करना थोड़ा मुश्किल है लेकिन जब ठान लिया जाए तो कोई रास्ता मुश्किल नहीं होता है.

  • योगीराज में सुधार की ओर बढ़ती कानून व्यवस्था

    योगीराज में सुधार की ओर बढ़ती कानून व्यवस्था

    2022 के विधानसभा चुनावों में भी कानून व्यवस्था एक बड़ा मुददा बना और प्रदेश की नारी शक्ति ने प्रदेश में बन रहे सुरक्षित वातावरण को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी को ही वोट किया।

  • क्यों जरुरी है जनसंख्या नियंत्रण कानून?

    क्यों जरुरी है जनसंख्या नियंत्रण कानून?

    इतिहास से सबक सीखने वाला समझदार कहलाता है। भारत के राजनीतिक पटल पर जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने के लिए चर्चा जोरों पर हैं। यह कानून क्यों आवश्यक है। इस लेख के माध्यम से पढ़ें।

  • भाषायी सद्भावना और अनुवाद का सौंदर्य

    भाषायी सद्भावना और अनुवाद का सौंदर्य

    हर भाषा की अपनी एक अलग पहचान होती है। भाषा की यह पहचान इस भाषा के बोलने वालों की सांस्कृतिक परंपराओं, देशकाल-वातावरण, परिवेशजन्य विशेषताओं, जीवनशैली, रुचियों, चिंतन-प्रक्रिया आदि से निर्मित होती है। दूसरे शब्दों में कहें तो हर भाषा का अपना एक अलग मिज़ाज होता है, अपनी एक अलग प्रकृति होती है, जिसे दूसरी भाषा […]

  • भारतीय ज्ञान पर आधारित आधुनिक प्रबंधन

    भारतीय ज्ञान पर आधारित आधुनिक प्रबंधन

    उद्योग व व्यापार जगत ने पाया है कि शीर्ष नेतृत्व को न केवल व्यावसायिक प्रबंधन बल्कि नैतिक मूल्यों का भी पालन करना चाहिए ताकि वे अपने उद्यमों का प्रभावी नेतृत्व कर सकें। अपने आध्यात्मिक समझ में सुधार करना अब एक व्यावसायिक आवश्यकता है, और आने वाले दशकों में और भी अधिक हो जाएगी।

  • आने वाले समय में भारत लिखेगा एक नया इतिहास

    भारत को अपने विकास में तेजी लाने और अपने बढ़ते कार्यबल की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए एक स्पष्ट आह्वान जारी किया जा रहा है। वर्तमान जनसांख्यिकी के आधार पर कार्यबल में प्रवेश करने वाले 90 मिलियन नए श्रमिकों को अवशोषित करने के लिए, भारत को 2030 तक कम से कम 90 मिलियन नए गैर-कृषि रोजगार सृजित करने की आवश्यकता है।

  • अब भ्रष्टाचार और पारिवारवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई की तैयारी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमृत काल के प्रथम प्रभात को स्वतंत्रता की 76 वीं वर्षगाठ पर लालकिले से ऐतिहासिक सम्बोधन दिया । इस दिन पूरा भारत हर घर तिरंगा उत्सव मनाते हुए तिरंगे के रंगों में डुबा था और प्रत्येक भारतवासी आनंद और उल्लास में झूम रहा था ।

  • अखंड भारत की राह में, सिंध के बिना हिंद अधूरा

    अखंड भारत की राह में, सिंध के बिना हिंद अधूरा

    यदि भारत के प्राचीन अर्थतंत्र के बारे में अध्ययन किया जाय तो ध्यान आता है कि प्राचीन भारत की अर्थव्यस्था बहुत समृद्ध थी एवं इसमें सिंध क्षेत्र का प्रमुख योगदान रहता आया है।

Get in Touch

Back to Top