आप यहाँ है :

दिग्विजय महाविद्यालय में छात्रसंघ शपथग्रहण समारोह सम्पन्न

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में छात्र नेता श्री ऋषि शास्त्री ने छात्रसंघ अध्यक्ष के रूप में शपथ ली। माननीय श्री भूपेश बघेल प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस के मुख्य आतिथ्य और माननीय श्री दलेश्वर साहू विधायक डोंगरगांव की अध्यक्षता में सम्पन्न महाविद्यालय में गरिमामय समारोह में प्राचार्य डॉ.आर.एन.सिंह ने अध्यक्ष सहित छात्रसंघ पदाधिकारियों और कक्षा प्रतिनिधियों को शपथ दिलाई। लगभग दो घन्टे तक चले इस समारोह का सफल संचालन डॉ.चन्द्रकुमार जैन ने गरिमामय ढंग से किया। समारोह के अंत में छात्रसंघ सहसचिव कु.प्रीति वैष्णव ने आभार प्रगट किया।

इससे पूर्व प्राचार्य ने अतिथियों को सम्बोधित करते हुये महाविद्यालय के संक्षिप्त इतिहास को बताते हुए कहा कि 1957 में 57 विद्यार्थियों से प्रारंभ हुआ यह महाविद्यालय प्रदेश का सबसे बड़ा स्वशासी महाविद्यालय हो गया है। यहाँ 34 विषयों में स्नातक सहित 20 विषयों में स्नातकोत्तर एवं 05 विषयों में शोध केन्द्र का दर्जा प्राप्त है। लगभग 4000 विद्यार्थियों वाले इस महाविद्यालय में विद्यार्थियों को रोजगार परक शिक्षा देने के लिए व्यवसायिक पाठ्यक्रम संचालित है। आपने बताया कि महाविद्यालय के लगभग 500 विद्यार्थी भारतीय सेना में अपनी सेवाएं देकर महाविद्यालय की गरिमा को बढ़ा रहे हैं।

छात्रसंघ अध्यक्ष श्री ऋषि शास्त्री ने अपने सम्बोधन में कहा कि मैं इस महाविद्यालय के छात्रसंघ अध्यक्ष के रूप में जो, भूमिका निभा रहा हूँ, उसमें महाविद्यालय के प्रत्येक विद्यार्थी का प्रतिनिधित्व शामिल है। मेरे अंदर हमारा महाविद्यालय बसा हुआ है और मेरा प्रयास होगा कि हम सभी मिलकर इस महाविद्यालय की गरिमा के अनुकूल इसे विकसित करने में अपना योगदान करें।

मुख्य अतिथि माननीय श्री भूपेश बघेल ने इस अवसर पर महाविद्यालय की प्रशासनिक व्यवस्था और अनुशासन की सराहना करते हुए छात्रसंघ पदाधिकारियों और कक्षा प्रतिनिधियों को शुभकामनाएं दी। इन्होंने अपने सम्बोधन में छात्र नेताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि छात्रसंघ चुनाव प्रजातंत्र की पहली सीढ़ी है। यहाँ से राजनीतिक व्यवस्था की शिक्षा मिलती है। प्रजातंत्र में विपक्ष का मजबूत होना बहुत जरूरी है। यह खुशी की बात है कि इस महाविद्यालय में प्रजातंत्र का यह स्वरूप विद्यमान है। छात्र नेताओं को इस बात का हमेशा ख्याल रखना चाहिये कि महाविद्यालय का शैक्षणिक माहौल प्रभावित न हो और वे मिलजूल कर अपने दायित्व का पालन करें। छात्र पदाधिकारियों द्वारा कक्ष निर्माण के लिए रखी गई मांग के बारे में उन्होंने कहा कि इस मांग को हम राज्यसभा सदस्य के सहयोग से पूरा करेंगे।
कार्यक्रम के अध्यक्ष डोंगरगांव विधायक माननीय श्री कलेश्वर साहू ने इस अवसर पर विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि छात्रसंघ की जिम्मेदारी बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। किन्तु समस्याओं का समाधान ढूंढने के लिये विद्यार्थियों को चाहिए कि वे अनुभवी लोगों से परामर्श लेवें। इन्होंने विद्यार्थियों को सकारात्मक सोच बनाये रखने की अपील की।

इस शपथग्रहण समारोह में महाविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और नगर के पूर्व महापौर श्री विजय पाण्डेय, पूर्व पार्षद एवं छात्र श्री दिनेश शर्मा, श्री किशन खण्डेलवाल, छात्रनेता श्री देवेन्द्र यादव, श्री निखिल द्विवेदी, श्री आकाश शर्मा ने भी समारोह को समबोधित किया। श्री विजय पाण्डेय ने कहा कि इस महाविद्यालय में अपने समय के छात्र संगठन की चर्चा की और कहा कि मैं इस महाविद्यालय में अतिथि नही छात्र बनकर आने पर गर्व महसूस करता हूँ। छात्र संगठन ऐसा संगठन है, जिसमें महाविद्यालय के सभी छात्र/छात्राओं को संगठित होकर क्रियाशील होना चाहिए।
मुख्य अतिथि के आगमन पर महाविद्यालय के मुख्य द्वार पर महाविद्यालय के संस्कृत विभाग के छात्रों द्वारा स्वस्ति वाचन एवं एन.सी.सी.केडेट्स द्वारा स्वागत किया गया, उसके बाद गणेश मंदिर में पूजा के बाद अतिथियों को मंचस्थ कराया गया, जहां महाविद्यालय के छात्र/छात्राओं ने स्वागत गीत गाया।
संपर्क
(डॉ. आर.एन.सिंह )
प्राचार्य
शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय
राजनांदगॉव (छ.ग.)

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top