आप यहाँ है :

फिक्की की महिलाओं ने मनाया महिला दिवस

नई दिल्ली।  यंग फिक्की लेडीज़ आॅर्गनाईजेशन की चेयरपर्सन श्रीमति अवर्णा जैन ने स्लीपवैल फाउण्डेशन के सहयोग से अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में पहली बार ‘वूमेन वेलनेस काॅनक्लेव’ का आयोजन किया। दिल्ली के पंचतारा होटल में आयोजित किये गये इस समारोह में लगभग केन्द्रीय मंत्री श्री राजीव प्रताप रूडी बतौर मुख्यातिथि उपस्थित थे। उनके अतिरिक्त लगभग 100 महिला उद्यमी, किरण बेदी आदि सहित विभिन्न गणमान्य भी इस कानक्लेव में उपस्थित रहे।

वूमेन वेलनेस काॅनक्लेव के अन्तर्गत में अपने क्षेत्रों में राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों ने शारीरिक, भावनात्मक, बौद्धिक एवम् आध्यात्मिक वेलनेस अवधारणा पर गंभीर जानकारी व विचार-विमर्श साझा किये गये।

मौके पर वाई.एफ.एल.ओ. की चेयरपर्सन श्रीमति अवर्णा जैन ने कहा यह काॅनक्लेव योगा, काउंस्लिंग, न्यूट्रीशन आदि की बुनियादी जानकारी उपलब्ध कराते हुए स्किलिंग इंडिया के राष्ट्रीय लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में योगदान देगा। वेलनस उद्योग में शहरी व ग्रामीण क्षेत्र की युवा महिलाओं हेतु लगभग 45 फीसदी उद्यमशीलता व नौकरियों के माध्यम से रोजगार के लाखों अवसर हैं। हमें उम्मीद है कि यह मेक इन इंडिया अभियान में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है।

अवर्णा जैन ने कहा, विश्व स्वास्थय संगठन द्वारा वेलनेस को ‘स्वस्थ व खुशहाल जीवन की जागरूकता प्राप्त करने व इसके लिए सूझबूझ पूर्ण चयन की एक सक्रिय प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया है। हमें उम्मीद है कि इस काॅनक्लेव के माध्यम से अपनी वेलनेस की तरफ एक कदम बढ़ाया है।

उन्होंने बताया कि वाई.एफ.एल.ओ. स्किलिंग क्षेत्र में अच्छा काम कर रहा है। वाई.एफ.एल.ओ. आई.टी.आई. के साथ काम करते हुए स्किलिंग विकास के लक्ष्य को प्राप्त करते हुए महिलाओं को रोजगार कौशल भी प्रदान करना चाहता है। रोजगार प्राप्त करने के लिए तीन पहलू; एक्पोज़र, इन्टर्नशिप और कौशल विकास, जिसके बाद रोजगार के अवसर अधिक सशक्त रहते हैं परन्तु इण्डस्ट्री में ऐसे रूझान कम देखने को मिलते हैं। ऐसे में 300 सदस्य की इकाई के साथ वाई.एफ.एल.ओ. हर कदम पर अच्छा एक्सपोजर प्रदान करने में मदद करेगा जिससे कि तीन पहलुओं के पर्याप्त अनुभव के बाद महिलाओं को अच्छा रोजगार कौशल के चलते अपने पैरों पर खड़ी हो सकें और हमें उम्मीद है कि वाई.एफ.एल.ओ. व स्लीपवेल फाउंडेशन के इन लक्ष्यों को प्राप्त करने में मंत्रालय का भरपूर सहयोग मिलेगा।

मौके पर उपस्थित सभी ने सूफी संगीत, कीर्तन व योगा तकनीक सत्रों में भी भाग लिया और अपनी तरह की इस गतिविधि का भरपूर लुत्फ उठाया। 

.

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top