Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिगांधी का स्वास्थ्य चिंतन ही रख सकता है सबको स्वस्थःप्रसून लतांत

गांधी का स्वास्थ्य चिंतन ही रख सकता है सबको स्वस्थःप्रसून लतांत

· अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर गांधी स्वच्छता एवं स्वास्थ्य विषय पर हुआ राष्ट्रीय सेमिनार

· स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज की गुडविल एंबेसडरों ने लगाया तुलसी का पौधा, दिया स्वास्थ्य का संदेश

· बिहार के समस्तीपुर जिला के सुदूर गांव बटहा में 1500 छात्र-छात्राओं ने स्वस्थ रहने का लिया संकल्प

· प्रधान मंत्री की अध्यक्षता वाली गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति के मार्गदर्शन में स्वस्थ भारत (न्यास) ने किया अनुपम आयोजन

नई दिल्ली/समस्तीपुर/रोसड़ा। ‘स्वस्थ रहने के लिए गांधी के स्वास्थ्य चिंतन को अपनाना पड़ेगा। स्वस्थ भारत की कुंजी गांधी के विचारों में ही अंतर्निहित है। यदि आप गांधी को जी रहे हैं तो निश्चित ही रोग आपसे कोसो दूर रहेगा। रोग को भगाने के लिए गांधी का स्वास्थ्य चिंतन रामवाण है।’ उक्त बातें गांधी स्वच्छता एवं स्वास्थ्य विषय पर बोलते हुए वरिष्ठ गांधीवादी चिंतक प्रसून लतांत ने कही। वे गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति के मार्गदर्शन में स्वस्थ भारत न्यास द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में बोल रहे थे। समस्तीपुर के सूदुर गांव बटहा के सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर विद्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में बोलते हुए स्वस्थ भारत अभियान के राष्ट्रीय संयोजक आशुतोष कुमार सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत से ही स्वस्थ भारत का निर्माण संभव है। उन्होंने महात्मा गांधी के स्वच्छता के संदेश को साझा करते हुए कहा कि मन एवं तन दोनों की स्वच्छता जरूरी है। स्वच्छ मन से ही स्वस्थ तन का निर्माण होता है। स्वच्छता एवं स्वास्थ्य के संबंध पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि अस्वच्छता के कारण मलेरिया, डेंगू, डायरिया, पीलिया सहित तमाम तरह की बीमारियों के शिकार हम हो जाते हैं।

इस अवसर पर प्रो. बीके तिवारी ने युवाओं के बढ़ते स्वास्थ्य समस्या पर पेपर प्रेजेंटेशन प्रस्तुत किया। अपने पेपर में प्रो. तिवारी ने बताया कि खानपान एवं रहन सहन में आए बदलाव ने युवाओं को बीमारी के चंगुल में फंसा दिया है। वहीं समस्तीपुर में बेटियों का फ्री में ईलाज करने वाले डॉ. एन.के आनंद ने स्वस्थ भारत का सपना कैसे पूर्ण हो, इस विषय पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि 25 वर्ष तक के युवाओं को और 60 वर्ष के बाद के बुजुर्गों का ईलाज पूरी तरह से सरकार को करवाना चाहिए। स्कूल के प्राचार्य अशोक कुमार सिंह ने छात्रों को स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने का आह्वान करते हुए कहा कि स्वस्थ रहकर ही हम अपनी पढ़ाई-लिखाई भी ठीक से कर पायेंगे। वहीं समाजसेविका प्रियंका सिंह ने महिलाओं के स्वास्थ्य पर अपनी बात को रखा। योग प्रशिक्षक कुमार कृष्णनन ने योग की महिमा से छात्रों को अवगत कराया।

इस अवसर पर आगत अतिथियों का शॉल एवं तुलसी का पौधा देकर सम्मानित किया गया। स्वस्थ भारत न्यास द्वारा ‘स्वस्थ बालिका स्वस्थ स्वस्थ समाज’ की गुडविल एंबेसडर बनाई गई छात्राओं ने स्कूल प्रांगण में तुलसी का पौधा लगाकर तुलसी के महत्व को रेखांकित किया। साथ ही स्वास्थ्य का संदेश देते हुए कहा कि स्वस्थ रहने के लिए औषधीय पौधों का रोपण बहुत जरूरी है। इसके पूर्व शैलेंद्र मिश्र ने स्वागत भाषण किया। स्कूली छात्राओं ने स्वागत में गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन स्वस्थ भारत अभियान के बिहार प्रवक्ता विजयव्रत कंठ ने किया। धन्यवाद ज्ञापन कैलाश पोद्दार ने किया। सत्या, सोनाक्षी, आकांक्षा, अमृता, प्रेरणा ने भजन प्रस्तुत किया। इस अवसर पर मिथिलेश पाठक, राजेश कुमार सुमन सहित दर्जनों वरिष्ठ एवं बुद्धिजीवी लोग उपस्थित थे।

1500छात्र-छात्राओं ने लिया योग का प्रशिक्षण, मुंगेर से आए योग प्रशिक्षक कुमार कृष्णन ने बताया योग का गुण
इसके पूर्व सुबह में 1500 बालक-बालिकाओं ने योग का प्रशिक्षण लिया। योग प्रशिक्षक कुमार कृष्णन ने छात्र-छात्राओं को शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य के लिए मंत्रों के मह्त्व को रेखांकित करते हए कहा कि मंत्रों के पाठ से जहां एकाग्रता ज्यादा संभव होती है नकारात्मक प्रवृति नाश होता है। शुक्ष्म योग, पद्मासन, धनुरआसन के साथ-साथ शितली ब्राह्मणी, उद्गीत, अनुलोम विलोम, कपाल भारती प्राणायाम कराया गया। इस अवसर पर उन्हें शॉल एवं तुलसी का पौधा देकर स्कूल के प्राचार्य अशोक कुमार सिंह ने सम्मानित किया।

सादर
आशुतोष कुमार सिंह, रा.संयोजक, स्वस्थ भारत अभियान
9891228151

Swasth Bharat Trust
51,Rani Jhanshi Marg
Second Floor, New Delhi
Pin-110055

www.swasthbharat.in
www.facebook.com/swasthbharaabhiyan
twitter.com/swasth_bharat
www.facebook.com/zashusingh
[email protected]
[email protected]

Mo-9811288151
9810939766

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार