आप यहाँ है :

गोइन्का पुरस्कार व सम्मान समारोह हैदराबाद में सम्पन्न

 हैदराबाद के एन.टी.आर. कलामंदिरम् में कमला गोइन्का फाउण्डेशन द्वारा आयोजित वरिष्ठ तेलुगु भाषी हिन्दी साहित्यकारों एवं हिन्दी पत्रकारों के सम्मानार्थ समारोह में कमला गोइन्का फाउण्डेशन के प्रबंध न्यासी श्री श्यामसुन्दर गोइन्का ने पुरस्कृत साहित्यकारों और पत्रकारों के योगदान को सराहा व संस्था का परिचय दिया।

वरिष्ठ हिन्दी – तेलुगु अनुसृजक के सम्मानार्थ घोषित इकतीस हजार रुपये का "गीतादेवी गोइन्का हिन्दी-तेलुगु अनुवाद पुरस्कार" – 2015 डॉ. आर. सुमनलता जी को प्रख्यात समाजशास्त्री पुरुषोत्तम अग्रवाल की विख्यात कबीर-कथा 'अकथ कहानी प्रेम की' की उनके द्वारा अनुसृजित तेलुगु कृति "विनिपंचनि कथा विनिपिंचु" तथा उनके द्वारा हिन्दी व तेलुगु साहित्य के प्रति किये गये समग्र योगदान के लिए दिया गया। 

आंध्र प्रदेश व तेलंगाना के वरिष्ठ हिन्दी साहित्यकारों के सम्मान में घोषित "भाभीश्री रमादेवी गोइन्का हिन्दी साहित्य सम्मान" – 2015 से वरिष्ठ साहित्यकार प्रो. सुवास कुमार जी को उनके साहित्यिक योगदान के लिए सम्मानित किया गया।

साथ ही आंध्र प्रदेश के हिन्दी पत्रकारिता जगत के वरिष्ठ पत्रकारों के सम्मनार्थ घोषित "श्री मुनींद्र पत्रकारिता सम्मान" से हैदराबाद से प्रकाशित प्रमुख हिन्दी दैनिक ' मिलाप' से करीबी से जुड़े श्री दिवाकर पांडेय जी को सम्मानित किया गया।

समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. ए. के. पुरोहित (प्रख्यात स्नायुविज्ञान निष्णात) ने सम्मानमूर्ति साहित्यकारों का अभिनन्दन किया और साहित्यिक गितविधियों के न्यास को बधाई दी। समारोह अध्यक्ष डॉ. एम. वेंकटेश्वर जी ने कमला गोइन्का फाउण्डेशन द्वारा साहित्यकारों, पत्रकारों के सम्मनार्थ चलाये जा रहे इस मुहिम को व हिन्दी साहित्य के प्रति किये जा रहे कार्यों की भरपूर सराहना की और श्री गोइन्का जी को बधाई दी।

कार्यक्रम का संचालन श्री सुमित मिश्रा तथा ललिता गोइन्का ने किया। अंत में श्री ओमप्रकाश गोइन्का जी ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर प्रादेशिक पुरस्कार समिति के सदस्य डॉ. राधेश्याम शुक्ल, श्री रवि श्रीवास्तव, श्री वेणुगोपाल भट्टड़ तथा एम. रंगय्या सहित हैदराबाद के अनेक गणमान्य साहित्य-प्रेमी व्यक्ति मौजूद थे।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top