ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

आध्यात्म से जोड़ता है भारतीय संगीत व शास्त्रीय नृत्य

श्री वल्ल्भम कत्थक समारोह में जीवंत हुई श्री कृष्ण लीलाएं

डॉ.प्रभात कुमार सिंघल,किया

भारतीय संस्कृति एक समृद्ध धरोहर है, कला व संगीत भी उसके महत्वपूर्ण अंग है। हमारा शास्त्रीय संगीत व नृत्य केवल मनोरंजन का साधन मात्र नहीं है बल्कि हमें आध्यात्मिकता से जोड़ने का एक बेहतर माध्यम है। नृत्य और संगीत के साथ भगवान कृष्ण की भक्ति पूरे देश में की जाती है। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर मुखिया मदनलाल जोशी स्मृति संस्थान कोटा द्वारा करियर पॉइंट ऑडिटोरियम में आयोजित श्री वल्ल्भम कत्थक समारोह के अवसर संबोधित करते हुए कहा कि भगवान श्री कृष्ण का प्रत्येक अवतार मनुष्य को जीवन जीने की नई सीख देता है। कथक में हमारी संस्कृति की अनुपम झलक दिखाई देती है, कला साधकों द्वारा कथक के माध्यम से भगवान कृष्ण की लीलाओं का मनोहारी मंचन ऐसा है मानो ईश्वर से हमारा सीधा साक्षात्कार हो रहा है।

जीवंत हुई श्रीकृष्ण की बाल लीलाएं

कार्यक्रम के दौरान कथक गुरू बरखा जोशी और उनकी शिष्याओं ने भगवान कृष्ण और राधा पर आधारित लीलाओं को प्रस्तुत किया। जिसने पूरे वातावरण को भक्तिमय कर दिया। श्री श्याम शास्त्री द्वारा हवेली संगीत, नृत्य व शास्त्रीय संगीत के माध्यम से कालिया दमन लीला, तराना नृत्य, देश भक्ति नृत्य गितिका का मंचन किया गया। कथक गुरू बरखा जोशी द्वारा बिरजू महाराज द्वारा रचित बिन्दादीन महाराज की रचना पर नृत्य की प्रस्तुति दी गई।

युवाओं को मिल रही प्रेरणा

लोक सभा अध्यक्ष ने कहा कि मुखिया मदनलाल जोशी स्मृति संस्थान ने शास्त्रीय नृत्य कला के, लोक-संस्कृति के माध्यम से भारतीय विरासत को सहेजने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कला साधिका बरखा जोशी ने पिछले कई वर्षों से इस सांस्कृतिक आंदोलन को एक कुशल नेतृत्व दिया और नृत्य कला में रूची रखने वाले कई युवाओं को हमारी शास्त्रीय नृत्य के जरिए संस्कृति के प्रति जागरूक और प्रेरित किया है।

कृष्ण भक्ति से प्रेरित है कथक

कार्यक्रम संयोजक व कला साधिका बरखा जोशी ने कहा कि भारतीय संगीत शास्त्र व नृत्य शास्त्र में हवेली संगीत शैली के पदों से भगवान श्रीकृष्ण और उनकी लीलाओं का अद्भुत वर्णन है। कथक नृत्य जिसे नटवरी नृत्य भी कहा जाता है, इसकी अभिव्यक्ति, भाव-भंगिमाएं सभी कृष्णचरित्र पर ही निर्भर है। संस्था के माध्यम से हमारी नई पीढ़ी को क्लासिकल डांस से जोड़ने का प्रयास जारी है।

कलाकारों का हुआ सम्मान
कार्यक्रम के दौरान सांस्कृतिक प्रस्तुति देने वाले कलाकारों व संस्था से जुड़े विशिष्ठ कला साधकों को लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सम्मानित किया। समारोह में श्री श्री 108 गो. विनय कुमार जी महाराज व शरद कुमार जी का सान्निध्य प्राप्त हुआ। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि कोटा नागरिक सहकारी बैंक के अध्यक्ष राजेश बिरला, कॅरिअर पॉइंट निदेशक ओम माहेश्वरी, एलन करियर इंस्टीट्यूट के निदेशक गोविन्द माहेश्वरी, डीइओ प्रदीप चौधरी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भगवत सिंह हिंगड़, मौजूद रहे।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top