Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeभारत गौरवभारतीय रेल नेटवर्क की कई दिलचस्प बातें

भारतीय रेल नेटवर्क की कई दिलचस्प बातें

अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारतीय रेलवे विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। आइए इससे जुड़े कुछ दिलचस्प आंकड़ों और तथ्यों पर नजर डालें-
 
– 2.5 करोड़ यात्री रोजाना भारतीय ट्रेनों से करते हैं सफर, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और तस्मानिया की कुल आबादी के बराबर है यह आंकड़ा।
 
– 1.15 लाख किलोमीटर लंबी रेल पटरियां बिछाई जा चुकी हैं भारत में अब तक, पृथ्वी की परिधि का डेढ़ गुना हिस्सा है यह लंबाई।
 
– 13.5 लाख किलोमीटर लंबा सफर तय करती हैं भारतीय ट्रेनें रोजाना, पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी का 3.5 गुना है यह सफर।
 
– 9वां सबसे बड़ा रोजगार प्रदाता है भारतीय रेलवे दुनिया में, 16 लाख अनुमानित कर्मचारी जुड़े हुए हैं इससे।
 
– 55 साल बिना शौचालय के दौड़ीं भारतीय ट्रेनें, आम यात्री ओखिल चंद्रा की ओर से रेलवे को भेजे शिकायती पत्र के बाद 1909 में शुरू हुई व्यवस्था।
 
– 11,000 ट्रेनों का संचालन रोजाना करता है भारतीय रेलवे, इनमें से लगभग 7,000 पैसेंजर ट्रेनें हैं।
 
– 10 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती है सबसे धीमी ट्रेन मेतुपलायम ऊटी नीलगिरि पैसेंजर ट्रेन।
 
– 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है सबसे तेज ट्रेन भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस, दिल्ली से आगरा के बीच 160 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चलने वाली सेमी-हाईस्पीड ट्रेन का ट्रायल भी हो चुका है पूरा।
 
– सबसे लंबे (श्रीवेंकटनरसिम्हाराजुवरीपेता-तमिलनाडु) और सबसे छोटे (ईब-ओडिशा) नाम वाले रेलवे स्टेशन भारत में हैं।
 
– नवापुर रेलवे स्टेशन दो राज्यों में बसा है, इसका आधा हिस्सा महाराष्ट्र और आधा गुजरात में पड़ता है।
 
– महाराष्ट्र के अहमदनगर में एक ही स्थान पर आमने-सामने हैं श्रीरामपुर और बेलापुर रेलवे स्टेशन।
 
– 24 मार्च 1994 को पहली बार टीवी पर रेल बजट का किया गया था लाइव प्रसारण।
 
– हर पांच में से एक इंटरनेट उपभोक्ता औसतन दिन में एक बार भारतीय रेलवे की वेबसाइट का करता है इस्तेमाल।
 
– 11.57 लाख सीटें और बर्थ रोजाना बुक की जाती हैं भारतीय ट्रेनों में, इनमें 1.71 लाख तत्काल कोटा के तहत।
 
– चेनाब नदी के ऊपर बन रहा दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल, पेरिस का एफिल टावर भी इसके सामने हो जाएगा बौना।

.

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार