Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिगोइन्का पुरस्कारों के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

गोइन्का पुरस्कारों के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

कमला गोइन्का फाउण्डेशन के प्रबंध न्यासी श्री श्यामसुन्दर गोइन्का ने एक प्रेस विज्ञप्ति द्वारा बताया है कि दक्षिण भारत के हिन्दी साहित्यकारों के लिए निम्न पुरस्कारों की प्रविष्टियां मंगाई गयी हैं।

इक्कीस हजार राशि का “बाबूलाल गोइन्का हिन्दी साहित्य पुरस्कार” (दक्षिण भारत के साहित्यकारों द्वारा सर्वश्रेष्ठ प्रकाशित मूल हिन्दी पुस्तक के लिए)।

इक्कीस हजार राशि का “पिताश्री गोपीराम गोइन्का हिन्दी-कन्नड़ अनुवाद पुरस्कार” (सर्वश्रेष्ठ प्रकाशित हिन्दी से कन्नड़ या कन्नड़ से हिन्दी में अनुवादित पुस्तक के लिए)

इक्कीस हजार राशि का “गीतादेवी गोइन्का हिन्दी-तेलुगु अनुवाद पुरस्कार” (सर्वश्रेष्ठ प्रकाशित हिन्दी से तेलुगु या तेलुगु से हिन्दी में अनुवादित पुस्तक के लिए)

इक्कीस हजार राशि का “बालकृष्ण गोइन्का अनुदित साहित्य पुरस्कार” (सर्वश्रेष्ठ प्रकाशित हिन्दी से तमिल या तमिल से हिन्दी में अनुवादित पुस्तक के लिए)

इक्कीस हजार राशि का “सत्यनारायण गोइन्का अनुदित साहित्य पुरस्कार” (सर्वश्रेष्ठ प्रकाशित हिन्दी से मलयालम या मलयालम से हिन्दी में अनुवादित पुस्तक के लिए)

उपरोक्त पुरस्कारों के लिए 2007-2017 के बीच की अवधि में प्रकाशित पुस्तक की चार-चार प्रतियां (अनुवादित कृति की चार प्रति तथा मूलकृति जिसका अनुवाद किया है उसकी चार प्रति) प्रस्ताव-पत्र एवं पासपोर्ट आकार की दो फोटो बैंगलोर कार्यालय में 10 जनवरी 2018 तक भेजने का आग्रह किया है। “बाबूलाल गोइन्का हिन्दी साहित्य पुरस्कार” के लिए सिर्फ मूलकृति ही भेजनी होंगी। इस बार का पुरस्कार समारोह बैंगलोर में आयोजित किया जायेगा।

प्रविष्टि-पत्र, नियमावली एवं अधिक जानकारी के लिए बेंगलुरू कार्यालय में सचिव कमलेश यादव से 99000202161 (Address – Kamala Goenka Foundation C/o. Go Go international Pvt Ltd. – No.6, KHG Industrial Area, 2nd Cross, Yelahanka New Town, Bangalore-560064. Tel : 080-32005502. Email :[email protected] & visit us at : www.kgfmumbai.com) साधारण पत्र द्वारा संपर्क किया जा सकता है।

कमलेश यादव
कार्यकारी सचिव, कमला गोइन्का फाउण्डेशन
मो. 9900020161

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार