आप यहाँ है :

अलारनाथ मंदिर पर जगन्नाथ भक्तों की भीड उमड रही है

भुवनेश्वर। भगवान अलारनाथ मंदिर का निर्माण 09वीं सदी में राजा चतुर्थभानुदेव ने कराया था जो स्वयं दक्षिण भारतीय वैष्वभक्त थे।यह मंदिर प्रकृति के उन्मुक्त तथा सुषमायुक्त वातावरण में अवस्थित है।श्री जगन्नाथ मंदिर के देवस्नान मण्डप पर 14जून को भगवान जगन्नाथ की देवस्नानपूर्णिमा पूरे आध्यात्मिक परिवेश में संपन्न हुई। चतुर्धा देव विग्रहों को 108 कलश पवित्र तथा शीतल जल से मलमल कर महास्नान कराया गया।अपनी मानवीय लीला के तहत महास्नान के उपरांत चतुर्धा देवविग्रह बीमार पड गये और उन्हें अगले 15दिनों के लिए एकांत उपचार के लिए अपने बीमार कक्ष में ले जाया गया जहां पर उनका आर्युर्वेदसम्मत उपचार प्रतिदिन चल रहा है।उनके शरीर पर फुलरी के तेल लगाया जा रहा है।

श्रीमंदिर का कपाट 15जून से आगामी 15 दिनों के लिए भक्तों के लिए बन्द कर दिया गया। उस दौरान पुरी से लगभग 23किलोमीटर की दूरी पर अवस्थित ब्रह्मगिरि में भगवान अलारनाथ के रुप में भगवान जगन्नाथ के दर्शन हो रहा है। सत्युग में स्वयं ब्रह्माजी आकर वहां पर प्रतिदिन तपस्या किया करते थे। दक्षिणभारत में आज भी विष्णुभक्त चतुर्भुज नारायण के रुप में उनकी पूजा करते हैं। ब्रह्मगिरि के भगवान अलारनाथ मंदिर की देवमूर्ति काले पत्थर की बनी है जो साढे पांच फीट की है। 1510 ई. में महाप्रभु चैतन्यजी स्वयं वहां आकर भगवान अलारनाथ के दर्शन किये थे।

ब्रह्मगिरि सैलानियों का स्वर्ग है। मंदिर में भगवान अलारनाथ को खीर का भोग प्रतिदिन निवेदित होता है जो काफी स्वादिष्ट होता है और उसकी मान्यात पुरी धाम के श्री जगन्नाथ मंदिर जैसी ही है।पिछले कई वर्षों से ब्रह्मगिरि में भगवान अलारनाथ मंदिर की साफ-सफाई आदि का जिम्मा स्वयं ओडिशा सरकार ने ले रखी है । यह भी देखने को मिलता है कि ओडिशा के बडे-बुजुर्ग जगन्नाथभक्त उन 15दिनों में कम से कम एकबार ब्रह्मगिरि जाकर भगवान अलारनाथ के दर्शन अवश्य करते हैं। भगवान जगन्नाथ की विश्वप्रसिद्ध रथयात्रा आगामी पहली जुलाई को है जिसमें रथारुढ महाबाहु श्री जगन्नाथ के दर्शनकर समस्त जगन्नाथ भक्त अपने मानव-जीवन को सार्थक बनाएंगे।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top