Thursday, April 18, 2024
spot_img
Homeखबरेंअब उज्जैन में सीख सकेंगे संस्कृत में पत्रकारिता

अब उज्जैन में सीख सकेंगे संस्कृत में पत्रकारिता

.उज्जैन।संस्कृत देव वाणी होते हुए भी आम बोल चाल की भाषा से अभी दूर है, लेकिन देश और विदेश में संस्कृत के प्रति बढ़ते रुझान को देखते हुए महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय प्रदेश का पहला संस्कृत में पत्रकारिता डिप्लोमा कोर्स कराएगा।

मध्यप्रदेश में अभी ऐसा कोई विश्वविद्यालय नहीं है, जहां संस्कृत में पत्रकारिता का कोर्स कराया जाता है। पाणिनी संस्कृत विश्व विद्यालय ने चार पांच नए कोर्स शुरू करने का निर्णय लिया है।

पत्रकारिता का डिप्लोमा कोर्स भी इसमें शामिल है। इसके अलावा संस्कृत नाटक और रंगमंच, ज्योतिष आदि विषयों के कोर्स भी शुरू कराए जाएंगे। जल्द ही विश्वविद्यालय प्रशासन इसकी विधिवत घोषणा कर प्रवेश प्रक्रिया और फीस आदि स्पष्ट करेगा। कुलपति डॉ. विजयकुमार सीजी और डॉ. तुलसीराम परौहा ने बताया जल्द कोर्स शुरू किए जाएंगे।

15 साल पहले से स्थापित विश्वविद्यालय

महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय की स्थापना 2008 में हुई थी।

15 अगस्त 2008 को स्थापना हुई और 17 अगस्त 2008 को शुभारंभ।

वर्तमान में महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय कुलपति डॉ. विजयकुमार सीजी हैं।

अभी 12 पीजी, 9 विषयों में यूजी और 10 डिप्लोमा कोर्स कराए जा रहे।

भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) ने श्री लालबहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ के साथ 2018 में संस्कृत पत्रकारिता कोर्स शुरू किया था लेकिन पहले साल 15 में से 12 विद्यार्थियों ने ही कोर्स किया।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार