ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

रेल बजट 2016 : श्री प्रभु ने खोला यात्री सुविधाओं का पिटारा

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने आज लोकसभा में वर्ष 2016-17 का रेल बजट पेश किया, इस बजट में रेल मंत्री ने यात्री किराए और माल भाड़े में कोई बढ़ोतरी भी नहीं की है. बजट भाषण में उन्होंने कहा कि हमारा मुख्य उद्देश्य रेल को आर्थिक वृद्धि का इंजन बनाना, रोजगार पैदा करना और उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधाएं देना है. उन्होंने कहा कि ये बजट आम नागरिकों का आकांक्षाओं का बजट है.

आज के बजट से क्या क्या प्राप्त हुआ :

-रेल यात्री किराया नहीं बढ़ा।
– 4 नई कैटेगरी वाली ट्रेनें मिली।
-ट्रेनों में पायलट आधार पर बच्चों के खाने की अलग से व्यवस्था पेश होगी ।
-रेलवे वरिष्ठ नागरिकों के लिए निचली सीट का कोटा बढ़ाकर 50 प्रतिशत करेगी ।
-कुछ चुनिंदा स्टेशनों पर पायलट आधार पर बार कोड वाले टिकट की शुरूआत होगी ।
रेलवे बोर्ड का पुनर्गठन किया जायेगा ।
-भारत के पहले रेलवे आटो केंद्र का चेन्नई में जल्द ही उद्घाटन किया जायेगा ।
-मुम्बई में दो एलिवेटेड उपनगरीय रेलवे कारिडोर.. चर्चगेट-विरार और सीएसटी-पणवेल का निर्माण किया जायेगा ।
-तीन सीधी और पूर्णत: वातानुकूलित ‘हमसफर’ रेल गाड़िया 130 किलोमीटर प्रति घंटे के रफ्तार से चलेंगी ।
-पत्रकारों के लिए रियायती दर पर टिकटों की ई-बुकिंग पेश की गई।
-2020 तक ट्रेनों में जब चाहें तब टिकट मिलेगी।
-महिलाओं के लिए 24 घंटे की हेल्पलाईन नंबर 182 ।
-रेलवे के 2 एप्प के जरिए टिकट बुक या कैंसिल होंगे।
-धार्मिक स्थलों के लिए आस्था सर्किट पर ट्रेनें चलाई जाएंगी।
-अहमदाबाद से मुंबई तक हाईस्पीड ट्रेन चलेगी।
-अब कुलियों को सहायक कहकर बुलाया जाएगा।
-400 स्टेशनों का सार्वजनिक निजी भागीदारी के जरिए आधुनिकीकरण किया जाएगा।
-रेलवे स्टेशनों पर मिल्क फूड की व्यवस्था होगी।
-रेलवे की दो एप्प के जरिए सारी समस्या का समाधान होगा।
-जीपीएस सिस्टम से ट्रेनों की सही और सटीक जानकारी मिलेगी।
-ट्रेन की हर कोच में जीपीएस सिस्टम लगाए जाएंगे।
-यात्रियों की पसंद का खाना मुहैया कराने की कोशिश।
-हर कैटेगरी के कोच में 33 फीसदी सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित होंगी।
-124 सांसदों ने सांसद निधि से यात्री सुविधाओं के विकास में योगदान करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की।
-रेल पुलों के निर्माण के लिए 17 राज्यों ने भारतीय रेलवे के साथ संयुक्त उद्यम बनाने पर सहमति व्यक्त की।
-2020 तक 95 फीसदी ट्रेनें सही समय से चलेंगी।
-रेल मंत्री ने कहा कि यात्रियों के किराये में सब्सिडी के चलते रेलवे को 30 हजार करोड़ रूपये का नुकसान।
-रेलवे वित्त वर्ष 2017-18 में नौ करोड़ और वित्त वर्ष 2018-19 में 14 करोड़ मानव दिवस सृजित करेगा।
-रेलवे में एलआईसी का 1.5 लाख करोड़ रुपए निवेश।
– सभी बड़े स्टेशनों पर सीसीटीवी और महिलाओं के लिए हेल्पलाईन होंगे।
-रेलवे विद्युतीकरण पर खर्च में 50 प्रतिशत वृद्धि, अगले वित्त वर्ष में 2000 किलोमीटर रेल मार्ग का विद्यतीकरण किया जायेगा
-रेलवे को सरकार से 40,000 करोड़ रुपए का बजटीय समर्थन मिलेगा।
– रेलवे में दुर्घटना को शून्य करने का लक्ष्य।
– 2500 वाटर वेंडिंग मशीन लगाई गई।
-ट्रैफिक लोड कम करने के लिए विकल्प की तलाश।
-अगले साल 400 रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई होगा।
-एटीएम से टिकट बुक कराने पर काम जारी।
-वित्त वर्ष 2016-17 के लिए इस सालनिवेश 1.21 लाख करोड़ रुपए रहेगा।
-हमने बड़े पैमान पर लंबित पड़े पुराने कार्यो को पूरा करने और भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए पूंजी व्यय को मजबूत बनाया है और पूंजी व्यय की दर बढायी है : रेल मंत्री ।
– महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए नए कदम उठाए।
– 5 साल में रेलवे प्रोजेक्ट पर 8.5 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे।
– इस साल रेलवे की 40 नई परियोजनाएं शुरू हुई।
-रेलवे में सभी पदों के लिए ऑनलाइन भर्ती होगी।
-वित्त वर्ष 2015-16 के बजट में बिजली समेत ईधन लागत में 8,720 करोड़ रूपये की बचत ।
– हमें उम्मीद है कि परिचालन अनुपात वर्तमान वर्ष के 90 प्रतिशक की तुलना में 92 प्रतिशत होगा : प्रभु ।
-शुल्क राजस्व के अतिरिक्त राजस्व के नये स्रोतों का दोहन करेंगे : रेल मंत्री
-मुख्य उद्देश्य रेल को आर्थिक वृद्धि का इंजन बनाना, रोजगार पैदा करना और उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधाएं देना है : सुरेश प्रभु ।
-राज्यों के साथ मिलकर पीपीपी मॉडल।
-हर दिन सात किलोमीटर नए रेलवे ट्रैक बनाए।
-2800 किलोमीटर रेलवे ट्रैक को पूरा गया है।
-मालगाड़ियों की गति बढ़ाकर 50 किलोमीटर प्रति घंटा करने की कोशिश।
-पैसेंजर ट्रेन में बायो टॉयलेट बनाने की कोशिश की जाएगी।
– रेलवे के परिचालन शुल्क को कम करने की कोशिश।
-लोगों की उम्मीदों को पूरा करेगा यह रेल बजट- सुरेश प्रभु
-रेलवे कर्मचारियों को 11.67 फीसदी ज्यादा वेतन मिलेगा।
-समाज के हर वर्ग के लोगों ने रेल बजट के लिए सुझाव दिए- सुरेश प्रभु
– देश में घूमने और कई लोगों से मिलने के बाद बजट बनाया- रेल मंत्री
-रेल मंत्री ने कहा कि ये चुनौतियों का समय और सबसे कठिन दौर है जिसका हम सामना कर रहे हैं।

रेल बजट के दौरान सदन में प्रधानमंत्री मोदी, लालकृष्ण आडवाणी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरूण जेटली और विधि मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा उपस्थित थे, वहीं विपक्ष की ओर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी और वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया बजट भाषण सुनते नजर आए.

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top