Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeखबरेंराजस्थान के योगी बाबा बालकनाथ

राजस्थान के योगी बाबा बालकनाथ

मीडिया डेस्क

राजस्थान में तिजारा विधानसभा सीट (Rajasthan Tijara) से BJP उम्मीदवार बाबा बालकनाथ (Baba Balaknath) को 6,173 वोटों से जीत मिली है। कुल 20 राउंड्स की गिनती के बाद इनको 1,10,209 वोट मिले हैं। जबकि कांग्रेस के इमरान खान को 1,04,036 वोटों के साथ हार का सामना करना पड़ा।

इससे पहले, वो लगभग 15 हजार वोटों से आगे चल रहे थे। बाबा बालकनाथ भाजपा सांसद हैं और CM रेस से चर्चा में आए थे। कांग्रेस ने उनके सामने 36 साल के पूर्व BSP नेता इमरान खान को उतारा था। बाबा बालकनाथ को राजस्थान का योगी कहा जाता है।

16 अप्रैल 1984 को राजस्थान के अलवर जिले के कोहराना गांव में एक किसान परिवार में जन्‍में महंत बालकनाथ योगी का पूरा परिवार लंबे समय से जनकल्याण व साधुओं की सेवा में जुटा रहा है। 6 साल की उम्र में ही उन्‍हें परिवार ने अध्यात्म का अध्ययन करने के लिए महंत खेतानाथ के पास भेज दिया था। गुरु से शिक्षा दीक्षा लेने के बाद महंत चांद नाथ के पास उन्हें भेजा गया। यहां पर उनकी बालक प्रवृत्तियों को देखकर महंत चांद नाथ ने उन्‍हें बालकनाथ कहना शुरू कर दिया। 29 जुलाई 2016 को महंत चांद नाथ ने अपना उत्तराधिकारी चुना। इस तरह वो मठ के आठवें महंत बने।

2019 के लोकसभा चुनाव में बालकनाथ ने अलवर से कांग्रेस के भंवर जितेंद्र सिंह को हराया था। इनको BJP का फायर ब्रांड नेता माना जाता है। उनके चुनाव प्रचार में खुद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी भी पहुंचे थे। योगी उनका नामांकन फॉर्म भरवाने पहुंचे थे। योगी ने बालकनाथ के लिए चुनावी सभा को भी संबोधित किया था। चुनाव अभियान के दौरान उन्हें ‘फ्यूचर सीएम’ भी बताया गया।

बालकनाथ हरियाणा के रोहतक में स्थित बाबा मस्तनाथ मठ अस्थल बोहर के महंत चांदनाथ के शिष्य रहे हैं। वो महंत चांदनाथ के बेहद करीबी रहे हैं। उन्होंने अपना पहला चुनाव 2019 में लड़ा था। भाजपा की टीकट पर उन्होंने लोकसभा चुनाव में जीत हासिल की थी। महज 38 साल के बालकनाथ की मेवात इलाके एक हिंदू नेता के रूप में पहचान है। उनके X (ट्विटर) प्रोफाइल के अनुसार, वो राजस्थान BJP के प्रदेश उपाध्यक्ष और बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार