Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिराष्ट्रीय पठन दिवस पर “अद्भुत भारत” पुस्तक पर  लेखक से मिलिए कार्यक्रम

राष्ट्रीय पठन दिवस पर “अद्भुत भारत” पुस्तक पर  लेखक से मिलिए कार्यक्रम

कोटा। राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा मे राष्ट्रीय पठन दिवस पर “अद्भुत भारत” पुस्तक के लेखक से मिलिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया । इस अवसर पर लेखक डॉ.प्रभात कुमार सिंघल ने विद्यार्थियों के लिए भारत के इतिहास, भूगोल, संस्कृति, पर्यटन पर आधारित ” अद्भुत भारत” की पांच पुस्तकों का सेट को  राजकीय सार्वजनिक मंडल पुस्तकालय के लिए भेंट किया।
संभागीय पुस्तकालय अध्यक्ष डॉ.दीपक कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि ये पुस्तकें विद्यार्थियों और आम पाठकों के लिए उपयोगी सिद्ध होंगी।अदभुत भारत पुस्तक के छ खंड अलग क्षेत्रो की विशेषता लिए हुये है जेसे – मध्य भारत , उत्तर भारत , दक्षिण भारत , पश्चिम भारत , पूर्व भारत  एवं पूर्वोत्तर भारत।
लेखक डॉ प्रभात सिंघल ने बताया कि – “अद्भुत भारत” एक पुस्तक संग्रह है जो भारतीय सभ्यता, ऐतिहासिक धारा, विविधता, और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को समर्पित है। यह पुस्तक सभी उम्र के पाठकों के लिए रोमांचक और उपयोगी है, क्योंकि इसमें भारत के विभिन्न पहलुओं की समीक्षा, विश्लेषण, और विवरण प्रस्तुत किए गए हैं। उन्होंने सिंघल ने विद्यार्थियों, शोधार्थियों, और पर्यटन प्रेमियों के लिए इसे एक महत्वपूर्ण संसाधन माना है। इसे न केवल ज्ञान अर्जित करने का साधन माना जा सकता है, बल्कि इसे भारत की विविधता और समृद्धता को समझने का एक साधन भी बनाया गया है।
सहायक पुस्तकालयाध्यक्ष डॉ.शशि जैन ने कहा कि- पुस्तक के छ खंडों में विभिन्न क्षेत्रों और राज्यों की विशेषताओं पर विस्तार से प्रकाश डाला गया है, जिनमें मध्य भारत, उत्तर भारत, दक्षिण भारत, पश्चिम भारत, और पूर्व भारत शामिल हैं। इन खंडों में भारतीय इतिहास, भूगोल, संस्कृति, और विविधता के प्रमुख पहलुओं को बेहतरीन ढंग से समझाया गया है।
इस अवसर पर, ग्लोबल पब्लिक स्कूल के लाइब्रेरियन योगेंद्र सिंह तंवर ने कहा कि – “अद्भुत भारत” के माध्यम से पाठकों को भारतीय संस्कृति, भूगोल, और इतिहास के प्रति गहरा रुचि और समझने का अवसर प्राप्त होता है, जो उनके ज्ञान और सोचने के तरीके को संवर्धित करता है। इस अवसर पर पाठक प्रवीण बेदी, अंजू सिंह, लोकेंद्र,  लवलेश शर्मा, प्रिया शर्मा, मीनाक्षी जोशी एवं अनिता भाट ने कहा की पुस्तकें सामान्य ज्ञान की दृष्टि से बहुत उपयोगी हैं।  सेवानिवृत पुस्तकालय अध्यक्ष कमल कांत शर्मा ने सभी का आभार व्यक्त किया ।
image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार