Friday, June 21, 2024
spot_img
Homeटेली गपशपउज्जैन के इतिहास की कहानी दूरदर्शन पर

उज्जैन के इतिहास की कहानी दूरदर्शन पर

चुका ‘डीडी नेशनल’ अपने दर्शकों के लिए पांच नए कार्यक्रमों को लेकर जल्द ही हाजिर हो रहा है। ये पांच कार्यक्रम हैं- ‘अवंतिका’, ‘ये दिल मांगे मोर’, ‘जय भारती’, ‘एम.बी.ए सरपंच’, ‘स्वराज’ और ‘सूरों का एकलव्य’।

‘अवंतिका’ उज्जैन के इतिहास की कहानी पर आधारित है। इस कार्यक्रम को देखकर आप इतिहास पर गर्व कर सकते हैं। अब बात करते हैं ‘ये दिल मांगे मोर’ की। इस कार्यक्रम में एक लड़का फौजी के किरदार में है और लड़की डॉक्टर के किरदार में। दोनों के बीच प्यार हो जाता है, लेकिन ये कहानी अन्य कहानियों से हटकर है। इसमें दोनों कैरेक्टर को लेकर एक ट्वीस्ट है, जो आपको यह शो देखने के बाद ही पता चलेगा।

‘जय भारती’ एक भूतपूर्व फौजी और उनके बेटे की कहानी है। पिता चाहते हैं कि उनका बेटा फौज में जाए, लेकिन बेटा एक्टर बनना चाहता है। ‘एम.बी.ए सरपंच’ एक बहुत ही प्रतिभाशाली और कामयाब लड़की की कहानी है, जो गांव आती है लेकिन गांव की होकर ही रह जाती है। आखिर क्यों नहीं जाती वो वापस शहर, क्यों गांव में उसका लग जाता है दिल, जानने के लिए देखिए आपको यह कार्यक्रम देखना होगा।

‘स्वराज’ कहानी है भारत की विदेशी आक्रांताओं के साथ संघर्षों की, भारत के स्वराज को बरकरार रखने वाले गुमनाम वीर और वीरांगनाओं की, जिनके बारे में बहुत कम लोगों को पता है। ‘सूरों का एकलव्य’ पुराने गानों पर आधारित एक रियलिटी शो है, जो आपके मन के तार को अंदर तक झंकृत कर देगा।

इन कार्यक्रमों की तारीखों की जानकारी बहुत जल्द ही दर्शकों को टीवी व सोशल मीडिया के माध्यम से दी जाएगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार