आप यहाँ है :

आजादी के अमृत महोत्सव के तत्वाधान में दुनिया के कल्याणार्थ होगा विश्व शांति महायज्ञ का भव्य आयोजन

• लोकसभा स्पीकर ओम बिरला, हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव, केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी, आईआईएमसी के महानिदेशक संजय द्विवेदी एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों को आमंत्रित किया गया।

• 21 से 24 अप्रैल 2022 तक आयोजित इस यज्ञ में प्रत्येक शाम सनातन धर्म से सम्बंधित सनातन कला प्रदर्शनी, सनातन कवि सम्मलेन के माध्यम से भारतीय संस्कृति के गौरव को आम जन तक पहुँचाया जायेगा।

• 23 अप्रैल को कवि सम्मलेन का आयोजन भी हो रहा है।

नई दिल्ली: आजादी के अमृत महोत्सव के ऐतिहासिक अवसर पर वैश्विक शांति और सद्भाव के लिए भारत देश की आजादी के 75वें वर्ष और यहाँ की संस्कृति और गौरवशाली इतिहास का उत्सव मनाने और संपूर्ण भारत तथा विश्व के कल्याण के लिए नमो सद्भावना समिति द्वारा अप्रैल माह के तीसरे सप्ताह में दिनांक 21 से 24 अप्रैल 2022 तक ‘आद्या कात्यायनी शक्तिपीठ मंदिर’, छतरपुर, नई दिल्ली में विश्व शांति महायज्ञम-2022′ का भव्य आयोजन किया जायेगा।

इस महायज्ञ में लोकसभा स्पीकर ओम बिरला, हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव, केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी, आईआईएमसी के निदेशक संजय द्विवेदी एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों एवं भारतवर्ष के अनेक मठों के मठाधीश्वरों, पीठाधीश्वरों, तथा शंकराचार्यों एवं राजनेताओं को आमंत्रित किया गया है। नमो सद्भावना समिति द्वारा आयोजित होने वाले विश्वशांति महायज्ञ-2022 के सलाहकार श्रीनिवास गजल ने इस बारे में बताया कि, “इस महायज्ञ में भगवान गणपति, भगवान धनवंतरी, भगवान सूर्यनारायण, भगवान रुद्र तथा शांति माता का आह्वाहन करते हुए सम्पूर्ण जगत में शांति, स्थिरता एवं कल्याण हेतु प्रार्थना की जाएगी। हमारा देश प्राचीन काल से ही लोककल्याण के लिए जाना जाता रहा है, इसीलिए इसे विश्वगुरु भी कहा गया है। “

लोक एवं विश्व कल्याण के लिए होने वाले इस महायज्ञ में लगभग 500 से भी अधिक वैदिक पुरोहित,अगम पंडित एवं विभिन्न मठाधीशपति संपूर्ण भारत से आमंत्रित किये गए हैं एवं जो इस महायज्ञ को संपन्न कराएंगे। इसके साथ ही सनातन धर्म के विषय में सनातन कला प्रदर्शनी, सनातन कवि सम्मलेन का आयोजन किया जायेगा और भारतीय संस्कृति के गौरव को आम जन तक पहुँचाया जायेगा।

नमो सद्भावना समिति के संचालक श्री प्रवेश पाण्डेय ने बताया की, “इस महायज्ञ में देश के अनेक प्राचीन मठों के मठाधीश तथा पीठाधीश्वर शामिल हो रहे हैं जिसमें प्रमुख रुप से मीनाक्षी पीठम तमिलनाडू, राघवेंद्र मंत्रालय के मठाधीश, कुर्तालम मठाधीश तमिलनाडु, तपोवन पीठम (श्रृंगेरी संस्थान) आंध्र प्रदेश, श्री वीर ब्रहमेंद्र स्वामी मठ आंध्र-प्रदेश, आदेश अखाड़ा उज्जैनी मध्य प्रदेश, ललिता पीठम तेलंगाना,ज्योतिष मठाधीश, बद्रीनाथ उतराखंड, पुष्पगिरी मठ तेलंगाना, हम्पी विजयारण्य मठ तेलंगाना,पंचायती अखाड़ा, श्री निरंजनी उज्जैनी मध्य-प्रदेश एवं जन्गाम्वादी मठ, अयोध्या और वाराणसी उत्तर प्रदेश के पीठाधीश्वर प्रमुख रुप से उपस्थित रहेंगे। साथ ही विभिन्न राज्यों के राज्यपाल, केंद्रीय मंत्री तथा अन्य राजनीतिक व्यक्तित्व इस महायज्ञ में शामिल होकर आहुति अर्पित करेंगे।

महायज्ञ क़े प्रथम दिन सिद्धि -बुद्धि प्रदाता श्री गणेश कल्याण-पुजन, द्धितीय दिवस श्री शिवगामी नटराजन कल्याण-पुजन, तृतीय दिवस श्री वल्ली देवसेना सुब्रमण्येश्वरा स्वामी (कार्तिकेय) कल्याण-पुजा और चतुर्थ दिवस अयोध्यापति श्री सीता राम कल्याण-पुजन उत्सव का आयोजन किया जाएगा। इसके साथ प्रत्येक दिन श्री तिरुपति बालाजी के भव्य आरती का आयोजन भी धूमधाम से किया जाएगा। समिति के मुख्य कार्यकारी मुरली कृष्णा और सदस्य श्रीमती कोनेरू रमादेवि श्रीधर, प्रवेश पांडेय, विभाकर मिश्र, संदीप कालिया,राजेश सिंह पुरे मनोयोग से महायज्ञ को सफल बनाने में जुटे हुए हैं।

Thanks and Regards:

Vindhya Singh

Media Coordinator

Namo Sadbhawna Samiti, New Delhi

Mob.- 7532913678

Email- [email protected]

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top