Monday, April 22, 2024
spot_img
Homeकवितासत्तर अस्सी के दशक की गाँव-कस्बे वाली होली

सत्तर अस्सी के दशक की गाँव-कस्बे वाली होली

कहाँ गईं वे मस्तियाँ, कहाँ गई वह मौज ।
वे केशर की क्यारियाँ, गोबर वाले हौज ॥
गोबर वाले हौज बीच डुबकी लगवाना ।
कुर्ते पर ‘पागल’ वाली तख्ती लटकाना ।
याद आ रहा है हम जो करते थे अक्सर ।
बीच सड़क पर एक रुपैया कील ठोंक कर ॥
आओ दिखलाएँ तुम्हें, सीन और इक यार ।
लल्ला जी के जिस्म पर, कुरती औ शलवार ॥
कुरती औ शलवार पहन जब निकलें बाबू ।
साँड़ और कुछ बछड़े हो जाएँ बेकाबू ।
इस डर से हाथों को पीछे बाँधे डोलें ।
गिर सकती हैं गेंद अगर हाथों को खोलें ॥
होता ही है हर बरस अपना तो ये हाल ।
जैसे ही फागुन लगे, दिल की बदले चाल ॥
दिल की बदले चाल, हाल कुछ यूँ होता है ।
लगता है दुनिया मैना औ दिल तोता है ।
फागुन में तौ भैया ऐसौ रंग चढै है ।
भंग पिए बिन हू दुनिया खुस-रंग लगै है ॥
होली के त्यौहार की, बड़ी अनोखी रीत ।
मुँह काला करते हुये जतलाते हैं प्रीत ॥
जतलाते हैं प्रीत, रंगदारी करते हैं ।
सात पुश्त की ऐसी की तैसी करते हैं ।
करते हैं सत्कार गालियों को गा-गा कर ।
लेकिन सुनने वाले को भी हँसा-हँसा कर ॥
जीजा-साली संग या, देवर-भाभी संग ।
होली के त्यौहार में, खिलते ही हैं रंग ॥
खिलते ही हैं रंग, अंग-प्रत्यंग भिगो कर ।
ताई जी हँसती हैं फूफाजी को धो कर ।
लेकिन तब से अब में इतना अन्तर आया ।
मन को रँगने वाले अब रँगते हैं काया ॥
सब के ह्रदय उदास हैं, बेकल सब सन्सार ।
सम्भव हो तो इस बरस, कुछ ऐसा हो यार ॥
कुछ ऐसा हो यार, प्यार की बगिया महकें ।
जिन की डाली-डाली पर दिलवाले चहकें ।
खुशियों को दुलराएँ, दुखों को पीछे ठेलें ।
ऐसी अब के साल, साल भर होली खेलें ॥
(लेखक बृज भाषा के जाने माने गज़लकार हैं और कई विधाओं में लिखते हैं) 
image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार