ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

पश्चिम रेलवे ने भूमि संसाधनों से लगभग 341 करोड़ रु.की कमाई की

सभी 6 मंडलों में उत्कृष्ट रेल कर्मियों को सम्मानित करने की नई उत्साहवर्धक परम्परा का शुभारम्भ

मुंबई। पश्चिम रेलवे पर 71 वाँ गणतंत्र दिवस समारोह महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल द्वारा ध्वजारोहण के साथ मनाया गया। इस अवसर पर उन्होंने चर्चगेट स्थित प्रधान कार्यालय परिसर में समारोहिक परेड का निरीक्षण किया तथा मार्चपास्ट की सलामी ली। रेलकर्मियों को सम्‍बोधित करते हुए सभी रेलकर्मियों और उनके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाएँ दी। श्री कंसल ने बताया कि पश्चिम रेलवे द्वारा भूमि संसाधनों से लगभग 341 करोड़ की आमदनी प्राप्‍त हुई है, जो समानुपाती लक्ष्‍य से 77 करोड़ रु. अधिक है। पश्चिम रेलवे द्वारा इस वित्तीय वर्ष में दिसम्बर, 2019 तक कुल 59.04 मिलियन टन का लदान किया है तथा इस दौरान आरम्भिक आमदनी लगभग 10921 करोड़ रु. रही। इस अवधि में पश्चिम रेलवे द्वारा 2904 डबल स्टैक कंटेनर ट्रेनें और 1005 ‘लॉन्ग हॉल’ ट्रेनें चलाईं, जो अब तक सर्वाधिक हैं। भारतीय रेलों पर ‘बजट मॉड्यूल,’ ‘यातायात लेखा प्रबंधन प्रणाली’ और ‘ई-रीकॉन’ के सफल कार्यान्वयन का श्रेय पश्चिम रेलवे को प्राप्त है।

इस समारोह के प्रारम्‍भ में पश्चिम रेलवे के प्रमुख सुरक्षा आयुक्‍त श्री ए. के. सिंह ने पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल का स्‍वागत किया तथा पश्चिम रेलवे के उप महाप्रबंधक (सामान्‍य) श्री परीक्षित मोहनपुरिया ने सभी का आभार व्‍यक्‍त किया। इस अवसर पर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने लोकप्रिय कविता – “कोशिश करने वालों की हार नहीं होती” सुनाते हुए सभी रेल कर्मियों को इस कविता में छिपे हुए संदेश पर अमल करने की सलाह दी। पश्चिम रेलवे कला एवं सांस्‍कृतिक संगठन के कलाकारों द्वारा देशभक्ति गीत सहित एक सांस्‍कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्‍तुत किया गया। इसी प्रकार रेल सुरक्षा बल के डॉग स्‍क्‍वायड द्वारा एक ‘डॉग शो’ भी प्रस्‍तुत किया गया। इस अवसर पर पश्चिम रेलवे महिला कल्‍याण संगठन की अध्‍यक्षा श्रीमती तनुजा कंसल एवं पश्चिम रेलवे के अपर महाप्रबंधक श्री वी. के. त्रिपाठी, विभिन्‍न विभागों के प्रमुख विभागाध्‍यक्ष और वरिष्‍ठ रेल अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। पश्चिम रेलवे के वरिष्‍ठ जनसम्‍पर्क अधिकारी श्री गजानन महतपुरकर ने समारोह का संचालन किया। गणतंत्र दिवस समारोह के बाद पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने चर्चगेट प्रधान कार्यालय में स्थित हेरिटेज गैलेरी का अवलोकन किया तथा इस गैलेरी के ज़रिये समृध्द धरोहर एवं दुर्लभ प्राचीन वस्तुओं के संरक्षण की सराहना की। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविन्द्र भाकर ने महाप्रबंधक श्री कंसल को हेरिटेज गैलेरी के विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी।

राष्ट्र के 71वें गणतंत्र दिवस के गरिमापूर्ण अवसर पर पश्चिम रेलवे के नवनियुक्त महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल के निर्देशानुसार सभी 6 मंडलों में संरक्षा और अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाले उत्कृष्ट रेल कर्मियों को स्वर्ण पदक एवं प्रशस्ति-पत्र से सम्मानित करने की नई उत्साहवर्धक परम्परा का शुभारम्भ किया गया। इस परम्परा के अनुपालन में मुंबई सेंट्रल, वडोदरा और अहमदाबाद मंडलों में 26 जनवरी, 2020 को आयोजित गणतंत्र दिवस समारोहों में सम्बंधित मंडल रेल प्रबंधकों क्रमशः श्री जीवीएल सत्य कुमार, श्री देवेन्द्र कुमार और श्री दीपक कुमार झा द्वारा विभिन्न उत्कृष्ट रेल कर्मियों को पुरस्कृत किया गया।

श्री कंसल ने पश्चिम रेलवे द्वारा गत दिनों में हासिल की गई विभिन्‍न उपलब्ध्यिों को याद किया। उनके द्वारा उल्‍लेख की गई प्रमुख उपलब्धियों में अपने उपनगरीय खंड पर उन्‍नत विशेषताओं सहित ‘उत्‍तम रेक’ की शुरुआत, यात्रियों की सुविधा एवं उनकी मांग को देखते हुए एसी ईएमयू उपनगरीय सेवाओं को सप्ताह के सभी 7 दिनों के लिए विस्तार, लम्बी दूरी की ट्रेनों के 42 रेकों को भी प्रोजेक्ट ‘उत्कृष्ट’ के अंतर्गत अपग्रेड शामिल थे। पश्चिम रेलवे के 8 स्‍टेशन अर्थात उधना, सूरत, विरार, नायगाँव, बोरीवली, कांदिवली, अंधेरी एवं सांताक्रुज़ ने राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छता सर्वेक्षण में उच्‍च स्‍थान प्राप्‍त किया है। इस वित्तीय वर्ष के दौरान, पश्चिम रेलवे ने लगभग 313 करोड़ रु. की स्क्रैप बिक्री हासिल की है, जो आनुपातिक लक्ष्य से 28 प्रतिशत अधिक है। ‘शून्य स्क्रैप मिशन’ के प्रति प्रतिबद्धता को पूरा करते हुए 7 कारखानों में से 4 कारखानों ने शून्य स्क्रैप स्टेटस प्राप्त करने की उपलब्धि हासिल की है। मुंबई सेंट्रल ऐसा पहला स्टेशन है, जिसे यात्रियों को गुणवत्तायुक्त भोजन प्रदान करने के लिए फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) द्वारा ‘ईट राइट स्टेशन’ (Eat Right Station) के रूप में प्रमाणित किया गया है।

 

 

श्री कंसल ने बताया कि पश्चिम रेलवे द्वारा इस वर्ष 6 नई ट्रेनें शुरू कीं गई, जिनमें 2 मेल/एक्सप्रेस और 4 डेमू ट्रेनें शामिल हैं। इसके अतिरिक्त 2 ट्रेनों को विस्तारित भी किया गया है। इस अवधि में यात्रियों की सुविधा के लिए 3215 हॉलिडे स्पेशल ट्रेनें चलाईं और अस्थायी/दैनिक आधार पर विविध ट्रेनों में 2861 अतिरिक्त कोच भी जोड़े। मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों की समयपालनता 92.46 प्रतिशत रही, जो पिछले वर्ष की तुलना में बेहतर है। सेफ्टी में सुधार लाने के लिए 127 किमी. के समानुपाती लक्ष्य की तुलना में इस वर्ष 189 सीटीआर यूनिट ट्रैक का नवीनीकरण किया गया। 46 पुराने पुलों का पुनरुद्धार किया गया, जबकि 41 बड़े पुलों का सुदृढ़ीकरण का कार्य किया गया। इस दौरान हमने 39 पीएसआर हटाये और 7 सेक्शनों में लूप लाइनों पर गति बढ़ाई। इसके साथ ही यात्रा के समय में बचत की दृष्टि से 6 सेक्शनों में सेक्शनल गति को बढ़ाया गया। ये सभी प्रयास ट्रेनों की औसत गति बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए हैं।

रेल उपयोगकर्ता हमारे सभी प्रयासों का केन्द्र बिंदु हैं। यात्रियों के लिए बुकिंग काउन्टर पर जाये बगैर कागज सहित और कागजरहित अनारक्षित टिकट खरीदने की सुविधा सभी स्टेशनों पर उपलब्ध है। हमने इस वर्ष विविध स्टेशनों पर 12 लिफ्टों और 12 एस्केलेटरों की सुविधा प्रदान की है। साथ ही 285 और स्टेशनों पर नि:शुल्क एवं तेज वाई-फाई की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। एक अन्य पर्यावरण-अनुकूल पहल के तौर पर यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए 15 स्टेशनों पर शत-प्रतिशत सौर ऊर्जा द्वारा संचालित मोबाइल चार्जिंग किओस्क उपलब्ध कराये गये हैं। वडोदरा, अहमदाबाद और मुंबई मंडल के 52 स्टेशनों पर स्वच्छता सम्बंधी फीडबैक सिस्टम की व्यवस्था की गई, जहाँ यात्री स्वच्छता के सम्बंध में स्टेशनों को रैंक प्रदान कर सकते हैं।

श्री कंसल ने पश्चिम रेलवे द्वारा किये गये विभिन्‍न अभिनव उपायों को याद करते हुए बताया कि पश्चिम रेलवे ने वर्ष 2019 के लिए विद्युत मंत्रालय द्वारा गठित 3 राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार मिले हैं, जिनमें परिवहन श्रेणी में प्रथम पुरस्कार तथा मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय, राजकोट एवं भावनगर को इंस्टिट्यूशन श्रेणी में क्रमशः द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार शामिल हैं। चालू वित्त वर्ष के दौरान विशिष्ट ऊर्जा खपत में 12.5 प्रतिशत के सुधार जैसे अनेक ऊर्जा संरक्षण उपायों को अपनाया है। एचओजी इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव तथा स्टेशनों, सेवा भवनों, रिहायशी क्वार्टरों एवं 3857 कोचों में एलईडी लाइटों की व्यवस्था आदि के द्वारा कार्बन क्रेडिट में कमी के अलावा इस वित्तीय वर्ष में लगभग 246.14 करोड़ रु. की बचत हुई है। इससे पर्यावरण को हरित एवं स्वच्छ रखने में सहायता भी मिली है। आज देश में इसकी अत्‍यधिक जरूरत है। डीज़ल शेड-रतलाम गोल्ड ग्रीन-को प्रमाणन हासिल करने वाला पश्चिम रेलवे का पहला डीजल शेड हो गया है। वडोदरा रेलवे स्टेशन को गोल्ड-ग्रीन रेलवे स्टेशन प्रमाणन और मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय भवन, वडोदरा को सिल्वर-ग्रीन भवन प्रमाणन प्राप्त हुआ है।

‘स्वच्छ भारत मिशन’ को ध्यान मे रखते हुए पश्चिम रेलवे ने बायो-टॉयलेट लगाने के काम में प्रशंसनीय उपलब्धि हासिल की है, जिसके अंतर्गत अब 99 प्रतिशत होल्डिंग सहित 5067 कोच बायो-टॉयलेट युक्त हो गये हैं। भारत में पहली बार राजधानी एक्सप्रेस के एक रेक की पेंट्री कार में PET बॉटल क्रशिंग मशीन लगाई गई है। प्लास्टिक प्रदूषण को समाप्त करने के लिए प्रमुख स्टेशनों पर 32 बॉटल क्रशिंग मशीनें लगाई गई हैं। पश्चिम रेलवे के 23 स्टेशनों को पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली के लिए ISO:14001 : 2015 से प्रमाणित किया गया है। पानी की बचत के साथ कोचों की बेहतर धुलाई के लिए गुजरात में मेन लाइन कोचों हेतु पहला ऑटोमेटिक कोच वाशिंग प्लांट भुज में शुरू किया गया।

श्री कंसल ने बताया कि देश के समग्र विकास और आर्थिक समृद्धि के लिए पश्चिम रेलवे बुनियादी ढाँचागत विकास के लिए प्रतिबद्ध है। इस वर्ष के दौरान लगभग 101 किलोमीटर का गेज परिवर्तन कार्य किया जा चुका है। अहमदाबाद-महेसाणा गेज परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत साबरमती-कलोल सेक्शन का गेज परिवर्तन और जसली-दियोदर सेक्शन के दोहरीकरण का कार्य पूरा करने के बाद इन खंडों को यात्री यातायात के लिए उपयुक्त प्रमाणित किया गया है। “स्‍टैच्‍यू ऑफ यूनि‍टी” जिसकी ऊँचाई 182 मीटर है, दुनिया की सबसे ऊँची स्‍टैच्‍यू है। इसे रेलवे मैप से जोड़ने के लिए अभी हाल ही में माननीय रेल मंत्री ने केवडिया स्‍टेशन का निरीक्षण किया। शीघ्र ही वडोदरा से सीधी ट्रेन द्वारा अंतरराष्‍ट्रीय पर्यटकों सहित या‍त्रीगण इसका लाभ उठा सकेंगे। इस वर्ष चोरी के 163 मामलों का पता लगाया गया और यात्रियों के लगभग 2.6 करोड़ रु. मूल्य के छूटे हुए सामान हकदार को लौटाये गये। उल्लेखनीय है कि रेल सुरक्षा बल द्वारा इस वर्ष दिसम्बर, 2019 तक घर से भागे हुए अथवा परिवारों से अलग हुए 637 बच्चों को उनके परिवार से मिलाया गया अथवा एनजीओ/नगर पुलिस को सौंपा गया। पश्चिम रेलवे ग्रुप डी श्रेणियों के 5610 अभ्यर्थियों की ओपन मार्केट भर्ती पूरा करने में पश्चिम रेलवे प्रथम स्थान पर रही। 7500 से अधिक कर्मचारियों को पद्दोन्नति तथा 500 कर्मचारियों के परिजनों को अनुकम्‍पा के आधार पर नियुक्ति प्रदान की गई है।

श्री कंसल पश्चिम रेलवे के खिलाड़ियों की उपलब्धियों पर बधाई देते हुए कहा कि हमें गर्व है कि पश्चिम रेलवे के हॉकी खिलाड़ी चिंग्लेसाना कांगुजम सिंह को प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार से नवाज़ा गया है। वर्ष 2020 के टोकियो ओलम्पिक खेलों में नीलकंठ शर्मा तथा अमित रोहिदास ने पुरुष हॉकी टीम में और दीप ग्रेस एक्का, लिलिमा मिंज तथा नवनीत कौर ने महिला हॉकी टीम में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए क्वालीफाई किया है।

अंत में श्री कंसल ने कहा – ‘उत्कृष्टता की खोज में हम सभी को अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए सदैव प्रयत्नशील रहना चाहिए। हमारे समक्ष उद्देश्यों की प्राप्ति तथा इस वित्तीय वर्ष की समाप्ति के पहले हमारे सभी निर्धारित लक्ष्यों को पूर्ण करने के साथ-साथ इनमें अब तक रही कमियों को पूरा करने की कठिन चुनौती है। मुझे विश्वास है कि प्रतिबद्ध श्रमशक्ति के साथ हम अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे तथा पूरे उत्साह एवं दृढ़निश्चय के साथ हमारे सम्माननीय ग्राहकों को सुविधा प्रदान करने की भूमिका का सफलतापूर्वक निर्वहन करेंगे। आदरणीय प्रधानमंत्री जी के आह्वान पर मैं आप सभी का साथ, विश्‍वास चाहता हूँ, जिससे कि भारत देश का सर्वांगीण विकास हो सके।’

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top