आप यहाँ है :

जन्मदिन पर विशेष डॉ. प्रभात कुमार सिंघल वन मैन आर्मी , स्वाभिमान के धनी

हर दिल अजीज डॉ प्रभात कुमार सिंघल के जन्मदिन पर बधाई और मुबारकबाद ।डॉ.प्रभात कुमार सिंघल को वन मैन आर्मी कह सकते हैं। इन्होंने ऐसे कठिन समी में कुशलता से अपने काम को अंजाम दिया जब इनके पास कोई सहायक नहीं था और पूरे पांच साल अकेले ने चार मंत्रियों को संभाला था। एक केंद्र के कांग्रेस और तीन राजस्थान बीजेपी के। साथ में दूसरे सारे जरूरी काम।

शहर की सभी स्वयंसेवी संस्थाओं को लेकर विभिन्न समाज सेवा विषयों पर विशेष अभियान चलाया था। सूचना केंद्र में आए दिन कोई न कोई गतिविधि आयोजित कर सूचना केंद्र नाम की संस्था को जीवंत बनाए रखा। अपने स्टाफ और पत्रकारों को साथ लेकर टीम भावना से ही हमेशा काम किया। शासन किसी का भी रहा हो, अपनी कार्यशैली से सबके प्रिय बने रहे और यथा सम्भव विवादों से दूर रहे। जन सम्पर्क की परिभाषा को सही मायने में सार्थक किया। सरकारी काम को सदैव प्राथमिकता पर रखते हुए निरन्तर समाज से जुड़े रहें। अपने निस्वार्थ कार्यों से सरकार और समाज दोनों से सम्मान पाया। जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों और पत्रकारों सभी के प्रिय बने रहे। पत्रकारों के कार्यों को तत्परता से कर हमेशा उनके हितों के लिए सजग रह कर आज तक उनके प्रिय बने हुए हैं। अपने कार्यालय सहयोगियों को भी दक्ष बना कर उनके कार्य कौशल में वृद्धि कर सहयोग प्राप्त किया।

उदयपुर में सेवा के दौरान भी अपनी पहचान बनाई और संस्था को जीवंत बनाए रखा। सेवाकाल में कोटा में स्मैक मुक्ति अभियान, चित्रकला दीर्घा की स्थापना और देश के चित्रकारों की कृतियों को संग्रह,दशहरे 100 वर्ष के दशहरे मेले के आयोजन और होप सोसायटी की स्थापना में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका एवं 10 वर्ष तक बाल प्रतिभाओं को उभारने के लिए मलहार उत्सव के आयोजन को सदैव यादगार उपलब्धि मानते हैं। परिस्थिति कोई रही हो अपनी अलग पहचान रखते हुए स्वाभिमान को बनाए रखा। सेवा निवृत्ति के पुनः विभाग में राजकीय सेवा में अवसर मिला और सात साल बाद नगर विकास न्यास में ओ.एस.डी. लगे पर स्वाभिमान के रहते दोनों अवसर कुछ ही समय में छोड़ दिए। ज्वाइंट डायरेक्टर से सेवा निवृत होने पर भी आज तक वे जनमानस में पी. आर,ओ, के नाम से लोकप्रिय हैं।

सेवा निवृत्ति के बाद लेखक और पत्रकार के रूप में भी अपनी पहचान कायम की हैं। अब तक विभिन्न विषयों पर करीब दो दर्जन पुस्तकें लिख चुके हैं जिनमें 18 उनके प्रिय विषय कला, संस्कृति, पर्यटन पर हैं। इन्होंने मार्च 1979 में सहायक जन सम्पर्क अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएं प्रारम्भ की और 31 अक्टूबर को जॉइंट डायरेक्टर पद से सेवा निवृत हुए। कोटा से लंबे समय तक सवाई माधोपुर, बूंदी, बारां और झालावाड़ जिलों में अतिरिक्त प्रभार के रूप में कार्य किया। उन्होंने आदिवासी विकास विभाग उदयपुर की पोस्टिंग के दौरान वर्ष 1986 में उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, सिरोही के आदिवासी जीवन का बारीकी से अवलोकन किया।

इन्होंने 1981 में राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर से “जर्नलिज्म में स्नातकोत्तर डिप्लोमा और इतिहास विभाग के प्रमुख के मार्गदर्शन में 1996 में कोटा मुक्त विश्वविद्यालय, कोटा से इतिहास में ” राजपुताने में पुलिस प्रशासन 1858-1947″ पर डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की।

कोटा जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न पदों पर गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर तीन बार प्रशस्ति पत्र और पदक से सम्मानित किया। वर्ष 2018 में कोटा मंडल के भाषा और पुस्तकालय विभाग द्वारा हिंदी दिवस पर “हिंदी साहित्य सेवी सम्मान” पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। वरिष्ठ नागरिक दिवस पर उन्हें “वरिष्ठ नागरिक लेखक” के रूप में भी सम्मानित किया गया है। 2018 उन्हें वर्ष 2019 में “वयोश्री सम्मान” से भी सम्मानित किया गया है। 8 नवंबर 2019 को कॉन्स्टीट्यूशन क्लब, नई दिल्ली में आयोजित भारत के प्रमुख हिंदी समाचार पोर्टल प्रभा साक्षी की 18 वीं वर्षगांठ समारोह में डॉ. सिंघल को दिल्ली में “हिंदी सेवा सम्मान” से शाल, प्रमाण पत्र और मोमेंटो देकर सम्मानित किया। उन्होंने पर्यटन के क्षेत्र में कई पुस्तकें लिखने और हाड़ौती क्षेत्र का राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार – प्रसार में उत्कृष्ट कार्य करने पर कोटा की संस्था न्यू इंटरनेशनल द्वारा 5 जनवरी 2021 को ” हाड़ौती गौरव सम्मान ” से सम्मानित किया गया। वर्किंग जर्नलिस्ट फेडरेशन ऑफ इंडिया की कोटा इकाई द्वारा 5 दिसम्बर 2021 को ” पत्रकार सम्मान” से सम्मानित किया गया।

राजकीय सार्वजनिक मंडल पुस्तकालय द्वारा राजस्थान दिवस पर आयोजित ” हमारा रंग बिरंगा राजस्थान” ऑन लाइन राष्ट्रीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में संयोजक की सफल भूमिका के लिए 23 अप्रैल 2022 को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। श्री राजाराम कर्मयोगी सेवा संस्थान कोटा द्वारा साहित्यकार और लेखक के रूप में राजा राम मोहन राय जयंती पर 22 मई 2022 को कोटा में आयोजित साहित्यकार सम्मान समारोह में ” शान – ए – राजस्थान साहित्य गौरव सम्मान -2022″ से मोतियों का कंठहार पहना कर, शाल ओढाकर एवं सम्मान पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। ऑल इंडिया पीस मिशन, गुरुग्राम द्वारा विश्व पर्यटन दिवस 27 सितंबर 2022 को कोटा में पर्यटन लेखन से सद्भावना और भाईचारा बढ़ाबढ़ाने में योगदान के लिए ” राष्ट्रीय सामाजिक समरसता सम्मान” से सम्मानित किया गया। मानसिक स्वास्थ्य पर पीछले 35 वर्षों से निरंतर राष्ट्रीय स्तर पर अपने लेखन से जागरूकता उत्पन्न करने के अतुलनीय योगदान के लिए 10 अक्टूबर 2022 को कोटा में रोटरी क्लब नॉर्थ द्वारा ” राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता सम्मान ” से सम्मानित किया गया।

सिंघल कोटा के जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक, जन संपर्क विभाग के अधिकारियों एवम कर्मचारियों, समाज सेवी, साहित्यकार एवम पत्रकारों ने जन्म दिन पर बढ़ाई और शुभकामनाएं दी। बढ़ाई देने वाले पत्रकारों में
भारत की महिमा के प्रधान संपादक डी एन गांधी, संपादक बृजराज सिंह सोलंकी, सहायक संपादक कादर खान, ओमेंद्र सक्सेना , दैनिक राष्ट्र के वाचन के सम्पादक और प्रेस क्लब अध्यक्ष गजेंद्र व्यास, वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार अनिल भारद्वाज, कोटा ब्यरो की सम्पादक कय्यूम अली, वरिष्ठ पत्रकार एडवोकेट अख्तर खान अकेला, न्यूज़ 18 के ओम प्रकाश, वरिष्ठ पत्रकार ओम कटारा, दैनिक कलम का अधिकार कोटा संकरण के सम्पादक के एल जैन,वरिष्ठ पत्रकार धीरज गुप्ता तेज, वरिष्ठ पत्रकार ओम कटारा, दैनिक राष्ट्रदूत के स्थानीय संपादक श्याम रोहिड़ा, वरिष्ठ और स्वतंत्र राष्ट्रदूत के स्थानीय संपादक श्याम रोहिड़ा, वरिष्ठ और स्वतंत्र पत्रकार सुबोध जैन,वरिष्ठ पत्रकार सुधींद्र गोड, चम्बल की गोद के संपादक सुभाष देवड़ा, यंग एचीवर न्यूज़ के पत्रकार यतीश व्यास, दैनिक राजमार्ग के स्थानीय संपादक योगेश सेन,नफा नुकसान के स्थानीय संपादक नीलेश शर्मा, दैनिक इवनिग न्यूज़ के संपादक मनोहर पारीक , एन डी टीवी के ब्यरो चीफ शाकिर अली, वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक सांध्य ज्योति दर्पण के ब्यरो चीफ योगेंद्र योगी, न्यूज़ न्यूज़ नेशन और आर भारत न्यूज़ चैनल के ब्यरो चीफ न्याज मोहम्मद, पत्रकार यतीश व्यास सहित सभी सैकड़ों कलमकार शामिल थे।

(लेखक कोटा के वरिष्ठ स्वतंत्र पत्रकार हैेंं)

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top