आप यहाँ है :

छत्तीसगढ़ की बेटी केरल में भाजपा की उम्मीदवार

सुनने में आपको बात फिल्मी लग सकती है। अब से करीब 10 साल पहले छत्तीसगढ़ की ज्योति ने अपने राज्य में एक एक्सीडेंट के दौरान केरल निवासी सीआईएसएफ जवान विकास की जान बचाई थी। इस दौरान उसे जवान से प्यार हो गया और बात दोनों की शादी तक पहुंच गई। अब 30 साल की ज्योति 10 दिसंबर को केरल में होने जा रहे स्थानीय निकाय चुनावों में राजनीतिक सरगर्मी का गढ़ बने पलक्कड़ जिले की कोलांगोडे ब्लॉक पंचायत से भाजपा उम्मीदवार के तौर पर ताल ठोक रही हैं।

अब धड़ल्ले से मलयालम बोलने वाली ज्योति ने कहा, 3 जनवरी, 2010 को हुए एक्सीडेंट में मुझे अपनी दायीं बाजू गंवानी पड़ी, लेकिन यह एक्सीडेंट मेरी जिंदगी का टर्निंग प्वाइंट बन गया। मुझे विकास से प्यार हो गया। ज्योति को न केवल छत्तीसगढ़ में अपने घर वापस लौटने पर अपने माता-पिता के क्रोध का सामना करना पड़ा बल्कि उसे अपनी बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई भी बीच में छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। लेकिन वह विकास को लेकर अडिग रही। करीब एक साल बाद केरल पहुंचकर उसने विकास से शादी कर ली। विकास के परिजनों ने भी ज्योति को खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया।

अपने एक्सीडेंट के बारे में याद करते हुए उसने कहा, वह बस से अपने कॉलेज हॉस्टल से बस में लौट रही थी। विकास उससे आगे की सीट पर बैठे हुए थे। विकास अपने भाई से मिलने के बाद दंतेवाड़ा जिले में सीआईएसएफ कैंप वापस लौट रहे थे। थकान के कारण विकास बस की खिड़की में लगी रेलिंग पर सिर लगाकर सो रहे थे। ज्योति के मुताबिक, उसने देखा कि एक ट्रक नियंत्रण खोकर बस की उसी साइड की तरफ आ रहा है, जिस तरफ वे दोनों बैठे हुए थे। खतरा भांपकर ज्योति ने विकास को खिड़की से दूर खींचा, लेकिन उसका बाजू एक्सीडेंट की चपेट में आकर कुचला गया।

ज्योति को चुनावों में जीत की पूरी उम्मीद है। उन्होंने कहा, मुझे मतदाताओं की तरफ से बढ़िया प्रतिक्रिया और आकर्षण मिल रहा है। अब वे मेरे लिए वोट डालते हैं या नहीं, यह दूसरी बात होगी।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top