ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

अहमदाबाद का केलिको वस्‍त्र संग्रहालय

भारत के विविध संग्रहालयों में अहमदाबाद का केलिको वस्त्र संग्रहालय भारत के कपड़ा संग्रहालयों में से एक प्रमुख संग्रहालय है जो भारतीय कपड़ों की विविध संग्रह के कारण जाना जाता है। पूरी दुनिया में यहां का कलेक्‍शन प्रसिद्ध है। इस संग्रहालय में विभिन्‍न डिजाइन, रंग और पैटर्न के दुनिया भर के वस्‍त्र देखने को मिलते हैं। परिसर में 2 संग्रहालय हैं एक वस्त्रों का और दूसरा धार्मिक कला का। प्रत्येक कमरे को एक विशिष्ट कला का प्रदर्शन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। आंध्र कलामकारी की उत्कृष्ट कृतियों, राजस्थान के शाही तंबू, देश भर की कशीदाकारी, महाराष्ट्र की पैठणी साड़ियों, मुगल काल से फैली 300-400 साल पुरानी मंजिल प्रदर्शित हैं। पल्लव और चोल कांस्य, गुजरात से जैन मूर्तियां, नाथद्वारा से पिचवई, लघु चित्र, गुजरात की भव्य पटोला साड़ी, अपनी सभी पेचीदगियों में दीप्तिमान बंधिनी, आशावल्ली साड़ी- अहमदाबाद की बहुत ही कला रूप, कश्मीरी शॉल, उड़िया पैचीट्रा देखने को मिलती है।

 

 

धार्मिक वस्त्रों, लघु चित्रों, कांस्य वस्तुओं और जैन कला के विशेष संग्रह के साथ हवेली चौक में मुगलों के शाही तंबू, कालीन, साज-सज्जा और वेशभूषा थी। वस्त्रों को समर्पित यह आकर्षक संग्रहालय पांच शताब्दियों के हस्तशिल्प के विविध संग्रह को प्रदर्शित करता है। इसमें कांस्य, पिछवा़ई और भारतीय लघु चित्रों का एक प्रभावशाली संग्रह है। एक उल्लेखनीय संग्रह में पाटन की कच्छी कढ़ाई और पटोला शामिल हैं। संग्रह के मुख्य आकर्षण में कश्मीरी शॉल शामिल हैं। प्रतिष्ठित संग्रहालय में विषयगत खंड हैं जो देश के विभिन्न हिस्सों से संबंधित बेहतरीन काते और बुने हुए कपड़ों को चित्रित करते हैं।

 

यहां कृष्ण को चित्रित करने वाली एक अद्भुत दीवार है जो दूसरी मंजिल से जमीनी स्तर तक लटकी हुई है। ताड़ के पत्तों पर मुद्रित प्राचीन पांडुलिपियों और मंडलों की विशेषता वाले संग्रहालय का विभाजन अद्भुत संग्रहालय का एक याद नहीं करने वाला खंड है। आगंतुक देश की कपड़ा संस्कृति के बारे में जानने के लिए संग्रहालय का ध्यान आकर्षित करते हैं। उल्लेखनीय प्रदर्शनों में से एक में डबल इकत कपड़ा शामिल है जिसके एक लाख धागे बुनाई से पहले अलग-अलग रंगे हुए हैं। पंजाब से लोक कला का उत्कृष्ट चित्रण, दक्षिण भारत से मंदिर के रथ और वाराणसी से रेशम ब्रोकेड अन्य उल्लेखनीय संग्रह हैं। सामग्री के रंग और गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए संग्रहालय में बिजली को कम रखा गया है। शाही दरबार में पहने जाने वाले परिधानों को प्रदर्शित करने वाले संग्रहालय का एक और दिलचस्प संग्रह है।

यह डिजाइन ज्ञान, संसाधन, अनुसंधान और प्रकाशन का केंद्र भी है। भारतीय कला और सांस्‍कृतिक विरासत के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए यह संस्‍थान कई कार्यशालाएं भी आयोजित करता है। संग्रहालय ने अहमदाबाद में स्थित प्रतिष्ठित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन में टेक्सटाइल डिजाइनिंग पाठ्यक्रमों में पढ़ाए जाने वाले पाठ्यक्रम को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण योगदान किया है। संग्रहालय को हर प्रकार के प्रदूषण से बचाने के लिए समुचित प्रबंध किए गए हैं। परिसर को हरा – भरा बनाया गया है।हरे-भरे बगीचे और फव्वारे एक मोहक अनुभव प्रदान करते हैं।इसकी स्थापना श्री गौतम साराभाई और उनकी बहन गीरा साराभाई ने 1949 ई.में कैलिको हाउस में की थी। संग्रह बढ़ने के साथ साथ इसे 1983 ई.में वर्तमान परिसर में शाहीबाग क्षेत्र के साराभाई हाउस में स्‍थानांतरित कर दिया गया था। संग्रहालय का उद्घाटन करते हुए, जवाहरलाल नेहरू ने कहा था, “सभ्यता की प्रारंभिक शुरुआत वस्त्रों के निर्माण से जुड़ी हुई है, और इतिहास को प्रमुख रूप से इसके साथ लिखा जा सकता है।” वास्तव में कैलिको म्यूज़ियम ऑफ़ टेक्सटाइल्स ने इस संक्षिप्त विवरण को इतनी अच्छी तरह से पूरा किया था कि 1971 तक हाउस ऑफ़ कैलिको ने कपड़े संग्रह की उत्कृष्टता और प्रकाशन विभाग द्वारा अमूल्य शोध किए गए जो वस्त्र जगत और समाज के लिए अत्यंत उपयोगी थे।

(लेखक कोटा में रहते हैं व राजस्थान के जनसंपर्क विभाग के सेवा निृवृत्त अधिकारी हैं)

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top