Friday, June 21, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिआधार को पहचान पत्र के रूप में स्वीकार करने से पहले उसे...

आधार को पहचान पत्र के रूप में स्वीकार करने से पहले उसे जांचें- यूआईडीएआई

किसी व्यक्ति की पहचान स्थापित करने के लिए आधार को भौतिक या इलेक्ट्रॉनिक रूप में स्वीकार करने से पहले संस्थाओं को आधार को सत्यापित करना चाहिए।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) का कहना है कि आधार धारक की सहमति के बाद आधार संख्या का सत्यापन आधार के किसी भी रूप (आधार पत्र, ई-आधार, आधार पीवीसी कार्ड और एम-आधार) की वास्तविकता स्थापित करने के लिए सही कदम है।

यह गलत इरादों वाले और असामाजिक तत्वों को किसी भी संभावित दुरुपयोग में शामिल होने से रोकता है। यह यूसेज हाइजीन को भी बढ़ावा देता है और यूआईडीएआई के इस रुख पर जोर देता है कि कोई भी 12 अंकों की संख्या आधार नहीं है। आधार दस्तावेजों से छेड़छाड़ का ऑफ़लाइन सत्यापन द्वारा पता लगाया जा सकता है और छेड़छाड़ एक दंडनीय अपराध है और आधार अधिनियम की धारा 35 के तहत दंड भी दिया जा सकता है।

यूआईडीएआई ने उपयोग से पहले सत्यापन की आवश्यकता पर जोर देकर राज्य सरकारों से अनुरोध किया है और राज्यों से आग्रह किया है कि वे आवश्यक दिशा-निर्देश दें ताकि जब भी आधार को पहचान के प्रमाण के रूप में प्रस्तुत किया जाता है तो निवासी का प्रमाणीकरण/सत्यापन संबंधित इकाई द्वारा आधार का उपयोग करके किया जाए।

यूआईडीएआई ने अनुरोध करने वाली संस्थाओं, प्रमाणीकरण/सत्यापन करने के लिए अधिकृत, और अन्य संस्थाओं को सत्यापन की आवश्यकता पर बल देते हुए और प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए खास सर्कुलर भी जारी किया है।

किसी भी आधार को एमआधार ऐप, या आधार क्यूआर कोड स्कैनर का उपयोग करके आधार के सभी रूपों (आधार पत्र, ई-आधार, आधार पीवीसी कार्ड और एम-आधार) पर उपलब्ध क्यूआर कोड का उपयोग करके सत्यापित किया जा सकता है। क्यूआर कोड स्कैनर एंड्रॉइड और आईओएस आधारित मोबाइल फोन के साथ-साथ विंडो-आधारित एप्लिकेशन दोनों के लिए फ्री में उपलब्ध है।

निवासी कागज या इलेक्ट्रॉनिक रूप में अपना आधार प्रस्तुत करके अपनी पहचान स्थापित करने के लिए स्वेच्छा से आधार संख्या का उपयोग कर सकते हैं। यूआईडीएआई ने पहले ही निवासियों के लिए क्या करें और क्या न करें जारी किया है, और निवासी अपने आधार का उपयोग पूरे विश्वास से कर सकते हैं।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार