Wednesday, May 22, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिबच्चों में जागरूकता से ही बाल अपराध पर अंकुश लगेगा

बच्चों में जागरूकता से ही बाल अपराध पर अंकुश लगेगा

करनाल: नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी द्वारा स्थापित कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन्स फाउंडेशन (केएससीएफ) के तत्वावधान में चल रहे ‘एक्सेस टू जस्टिस’ प्रोजेक्ट के तहत करनाल जिले के नेवल गांव के राजकीय मिडिल स्कूल में एमडीडी ऑफ इंडिया द्वारा एक सेमिनार का आयोजन किया गया। जिममें एमडीडी ऑफ इंडिया की ओर से रामेश्वर दास द्वारा बच्चों को पॉक्सो कानून, गुड टच, बैड टच, बाल श्रम, बंधुआ मजदूरी, ट्रैफिकिंग व चाइल्ड हेल्पलाइन के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी गई।

एमडीडी ऑफ इंडिया की ओर से सुश्री राधिका सपरा (ORW) राजकीय मिडिल स्कूल नेवल की अध्यापिका सुश्री तनुजा, सुमन, ममता, मास्टर रामकुमार जी ने सेमिनार में हिस्सा लिया। अध्यापिका तनुजा जी ने सेमिनार के अंत में बच्चों को उपरोक्त विषयों पर दी गई जानकारी को याद रखने के लिए कहा और इसके साथ ही केएससीएफ और एमडीडी के प्रयासों को सराहा।

एमडीडी ऑफ इंडिया बाल अधिकारों के प्रति लोगों को जागरूक करने के मकसद से लगातार ऐसे सेमिनार का आयोजन कर रहा है। इस मौके पर एमडीडी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मान ने कहा कि इस मुहिम का उद्देश्य आमजन और विशेषतः स्कूली बच्चों को जागरूक करना है ताकि वे सही और गलत का अंतर समझते हुए खुद को ‘बाल यौन शोषण’, ‘ट्रैफिकिंग’ और ‘बाल-श्रम’ के संभावित खतरे से बचा सकें।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार