Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेडॉ. स्वामी बोले, बेशर्म हैं मुस्लिम, 800 सालों तक राज करने...

डॉ. स्वामी बोले, बेशर्म हैं मुस्लिम, 800 सालों तक राज करने के बाद भी कर रहे पिछड़ा कहलाने की माँग

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने ऑल इंडिया मज्लिस ए इतेहदुल मुसलिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर जोरदार हमला बोलते हुए मुस्लिमों को बेशर्म बताया है। उन्होंने कहा है कि जिन्होंने देश में 800 सालों तक राज किया है वह अगर खुद को अगर पिछड़ा कहते हैं तो यह उनके लिए शर्म की बात है। टाइम्स नाउ के मुताबिक स्वामी ने कहा, ‘देश में ब्राह्मण गरीब हैं, क्षत्रिय भी गरीब हैं, लेकिन वे लोग आरक्षण की मांग नहीं कर रहे हैं, लेकिन मुस्लिम बेशर्मों की तरह आरक्षण की बात कह रहे हैं। हमारे देश पर 800 सालों तक राज करने के बाद, देश को 800 सालों तक लूटने के बाद अब वे पिछड़ा कहलाने की मांग कर रहे हैं। किसी भी केस में आप धार्मिक रूप से पिछड़ापन तय नहीं कर सकते, लेकिन अगर ओवैसी वास्तव में किसी पिछड़े व्यक्ति का नाम बताते हैं तो हम उन्हें स्कॉलरशिप दे सकते हैं और दूसरे रूप में उनकी मदद कर सकते हैं। ओवैसी को काशी राम के जैसा सोचना चाहिए, काशी राम ने अनुसूचित जातियों से कहा था कि आरक्षण के बारे में मत सोचो, शक्ति और ताकत के बारे में सोचो।’

बता दें कि ओवैसी ने ट्वीट कर मुस्लिमों के आरक्षण की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस पाटीदारों को आरक्षण देने पर राजी हो गई है, लेकिन मुस्लिमों को आरक्षण देने के लिए कुछ नहीं किया जो कि सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े हैं। दरअसल गुजरात विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस और पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के बीच पाटीदार समाज को आरक्षण दिए जाने के फार्मूले पर सहमति बन गई है। इस बात की जानकारी पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने दी अहमदाबाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए दी थी। पटेल ने कहा था कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) दो दशकों से अधिक समय से राज्य की सत्ता में है और उसके खिलाफ लड़ाई लड़नी जरूरी है। पटेल द्वारा कांग्रेस की सहमति के ऐलान किए जाने के बाद ओवैसी ने ट्वीट कर अपना गुस्सा जाहिर किया था और मुस्लिमों के आरक्षण के लिए मोर्चा खोलने का काम किया था।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार