ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

श्री अष्ठाना व श्रीमती अग्निहोत्री को हिन्दी गौरव अलंकरण

इंदौर । हिन्दी के प्रचार और प्रसार हेतु प्रतिबद्धता से कार्य करने के लिए ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान’ द्वारा प्रतिवर्ष दो हिन्दी साधकों को ‘हिन्दी गौरव अलंकरण’ से विभूषित किया जाता है। इसी शृंखला में वर्ष 2022 के हिन्दी गौरव अलंकरण चयन समिति ने हिन्दी की सुप्रसिद्ध लेखिका कृष्णा अग्निहोत्री जी एवं तीन दशक से देवपुत्र के प्रधान संपादक रहे वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण कुमार अष्ठाना जी को हिन्दी गौरव अलंकरण से विभूषित किया जाने का निश्चय किया है। फरवरी माह में इन्हें हिन्दी गौरव अलंकरण से विभूषित किया जाएगा।

श्रीमती अग्निहोत्री वर्षों से हिन्दी साहित्य जगत् में सेवा कर रही है, और अब तक आपके साहित्य पर शोध कर 200 से अधिक लोग पीएचडी कर चुके है। तथा लगभग 30 वर्षों से बाल साहित्य की अग्रणीय बाल पत्रिका देवपुत्र के माध्यम से जन सामान्य तक हिन्दी भाषा की पहुँच बनाने में अपनी सक्रिय भूमिका निभाने वाले तथा पत्रकारिता जगत् में बाल साहित्य को स्थान दिलाने में महनीय भूमिका निभाने वाले श्री कृष्ण कुमार अष्ठाना का साहित्यिक अवदान भी रेखांकित होता है।

ज्ञात हो कि संस्थान द्वारा वर्ष 2020 से आरम्भ हिन्दी गौरव अलंकरण में प्रतिवर्ष एक हिन्दी सेवी पत्रकारिता के क्षेत्र से व एक हिन्दी सेवी साहित्य लेखन क्षेत्र से चयनित किए जाते है। पूर्व में वर्ष 2020 में पद्मश्री अभय छजलानी एवं अज्ञेय के चौथा सप्तक में शामिल राजकुमार कुम्भज एवं वर्ष 2021 में कैलाश चंद्र पंत व डॉ. विकास दवे भी हिन्दी गौरव अलंकरण से विभूषित हो चुके हैं।

संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ ने बताया कि श्री अष्ठाना जी व श्रीमती कृष्णा अग्निहोत्री जी निःसंदेह हिन्दी के गौरव हैं, आपके माध्यम से हिन्दी के प्रचार-प्रसार में अभिवृद्धि हुई है। संस्थान आपको सम्मानित कर स्वयं गौरवान्वित महसूस कर रहा है।’
संस्थान की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. नीना जोशी ने हर्ष व्यक्त करते हुए श्री अष्ठाना व श्रीमती अग्निहोत्री जी के द्वारा साहित्यिक व पत्रकारिता जगत् में अर्जित उपलब्धियों के बारे में बताया।

मातृभाषा उन्नयन संस्थान की राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष शिखा जैन, राष्ट्रीय सचिव गणतंत्र ओजस्वी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य नितेश गुप्ता, भावना शर्मा, सपन जैन काकड़ीवाला सहित मध्यप्रदेश प्रदेश अध्यक्ष अमित मौलिक आदि ने शुभकामनाएँ दीं।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top