Wednesday, May 29, 2024
spot_img
Homeपत्रिकाकला-संस्कृति'मेरा वो मतलब नहीं था' :हास्य और संवेदनाओं का संगम है ...

‘मेरा वो मतलब नहीं था’ :हास्य और संवेदनाओं का संगम है :- अनुपम खेर

पिछले दिनों अपने नाटक 'मेरा वो मतलब नहीं था 'के अमेरिका दौरे की घोषणा करने और इसको प्रचार करने के लिए श्री अनुपम खेर जी ने हूस्टन में पत्रकारों से बात की। अनुपम जी ने कहा कि वह और राकेश बेदी जी हवाई जहाज में साथ में सफर कर रहे थे तो मैने  राकेश बेदी से कहा कि 'कुछ भी हो सकता है' नाटक किये हुए १० साल हो गए हैं, अब एक और नाटक करना चाहता हूँ तो राकेश बेदी ने कहा कि एक नाटक है मेरे पासl  मैने कहा कि उसका नाम क्या हैl राकेश ने कहा 'मेरा वो मतलब नहीं था 'उसी समय मैने कहा कि मै ये नाटक करूँगाl  अनुपम जी ने नाटक के बारे में बताते हुए कहा कि ये नाटक हास्य और संवेदनाओं का संगम हैl  नाटक 'मेरा वो मतलब नहीं था' सिर्फ नाटक नहीं है इसमें फिल्म भी है ऐसा भारत में पहली बार हुआ है, कि किसी नाटक में फिल्म को जोड़ा गया होl  इस नाटक के फ़्लैश बैक दृश्यों को शूट किया गया है, जिसको नीरज पाण्डेय ने शूट किया हैl  

उस  साथी कलाकार है सतीश कौशिक, हिमानी शिवपुरी,अनजान श्रीवास्तवl  इस नाटक के अंतर्राष्ट्रीय  प्रमोटर है, स्टार प्रमोशन के श्री राजेंद्र सिंहl स्टार प्रमोशन एक ऐसा नाम है, जिसको परिचय  की कोई जरुरत नहीं हैl अपने अच्छे शो के कारण आज  स्टार प्रमोशन अमेरिका में शो लाने वाली कम्पनियों में एक अग्रणी नाम बन चुका हैl स्टार प्रमोशन अभी तक बहुत से संगीत के और फ़िल्मी कलाकारों के करीब ९५ स्थानीय और १० अंतर्राष्ट्रीय शो ला चुका है, जिनमे प्रमुख हैं, अमिताभ बच्चन ,शाहरुख़ खान, आशा जी,रेखा जी,जगजीत सिंह,सोनू निगम, रहत फ़तेह अली खान ,शान,भप्पी ,शंकर एहसान लॉय ,मीका सिंह, इत्यादिl श्री राजेंद्र जी ने, ख़राब मौसम के बाद भी यहाँ आने के लिए पत्रकारों का धन्यवाद किया और आगे कहा कि इस नाटक को लाने में उनको बहुत ही ख़ुशी हो रही हैl .इस नाटक के कलाकार है अनुपम खेर , नीना गुप्ता और राकेश बेदीl राजेंद्र जी ने बताया कि ये नाटक अगस्त /सितम्बर में अमेरिका ,कनाडा ,और यू के . में होने वाला है ये एक नाटक नहीं अनुभव है ऐसा नाटक बार – बार नहीं आता है, तो आइये और इसको महसूस कीजियेl

पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए अनुपम जी ने कहा कि इसके संवाद बहुत ही खूबसूरत है, जैसे एक जगह में कहता हूँ "इतिहास के पन्ने पीले पड़ चुके हैं इन्हें इतना न पलटो के फट जाएँ "इस नाटक को बहुत ही खूबसूरती से लिखा गया हैl नीना गुप्ता ने दो किरदार निभाएँ है और दोनों ही बहुत खास हैl अनुपम जी ने कहा कि इस नाटक को उन्होंने भारत और सिंगापुर में किया है और हर जगह इस नाटक को बहुत सराहा गया हैl एक बात और भी खास रही कि इस नाटक के लिए टिकट खिड़की खोलने की जरुरत ही नहीं पड़ी सारे टिकट ऑनलाइन ही बिक गएl जिस भी शहर में नाटक होने कि घोषणा हुई सारे टिकट तुरंत ही बिक गएl अनुपम जी ने सभी को इस नाटक को देखने आने की दावत दी और कहा कि आप इस नाटक को कभी भी भूल नही पाएंगेl ये ऐसा नाटक है जिससे हर देखने वाला खुद को जुड़ा हुआ महसूस करता है और मै अपने दर्शकों से, अपने चाहने वालों से जुड़ना चाहता हूँ l

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार