Monday, July 22, 2024
spot_img
Homeहिन्दी जगतख्यातमान कवि रामस्वरूप मुंदड़ा, शिवप्रसाद शर्मा, स्मृति काव्य रत्न सम्मान से सम्मानित

ख्यातमान कवि रामस्वरूप मुंदड़ा, शिवप्रसाद शर्मा, स्मृति काव्य रत्न सम्मान से सम्मानित

कोटा। ‘रंगीतिका’ संस्था द्वारा साहित्य पुरोधा एवं शिक्षाविद स्वर्गीय शिवप्रसाद शर्मा की जन्म शताब्दी वर्ष समारोह में मंगलवार को बूंदी के ख्यातमान कवि रामस्वरूप मुंदड़ा को शिवप्रसाद शर्मा स्मृति काव्य रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया । कार्यक्रम का आयोजन राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय के सभागार में किया गया।

मुख्य अतिथि उपवन संरक्षक अनुराग भटनागर ने बोलते हुए कहा कि ऐसे साहित्यकार बंधुओं के शताब्दी आयोजन समाज को नई दिशा और दशा देते हैं। मुख्य वक्ता कथाकार – समीक्षक विजय जोशी ने कहा वरिष्ठ कवि रामस्वरूप मूंदड़ा की ये कविताएँ इस बात की साक्षी हैं कि प्रेम की उदात्तता जब दार्शनिक पृष्ठभूमि के साथ प्रकृति के सौन्दर्य को आत्मसात् करती है तो जीवन के विविध सन्दर्भ अनुभूति के पथ से होते हुए वास्तविक रूप में उभर कर कविता में समा जाते हैं।’ वहीं ‘ आस्था के दीप ‘ कविता संग्रह की रचनाओं में कवि शिव प्रसाद शर्मा ने अपने परिवेश को सहजता से उभारकर काव्य की विविध विधाओं में रचित किया है जिनमें शैक्षिक वातावरण और काव्य रसिकता उभर कर रचनाओं में सच्चाई की सरिता सी प्रवाहित होती है।

कार्यक्रम के अध्यक्ष साहित्यकार जितेंद्र निर्मोही ने कहा कि- शिक्षक जब साहित्यकार होता है।तो उनके कथन दिवंगत हो जाने के बाद ज्यादा प्रसांगिक हो जाते हैं। स्व शिव प्रसाद शर्मा जी का शताब्दी वर्ष कितने ही आयामों को सदन में छोड़ गया है। वर्तमान स्थिति बाजारवाद के समय किसी वृहद सारस्वत कर्म नहीं। जो काम राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर नहीं कर पाई वो काम रंगितिका संस्था कोटा ने किया है वरिष्ठ साहित्यकार राम स्वरूप मूंदड़ा को समादृत और पुरस्कृत करके।

विशिष्ट अतिथि भगवती शर्मा ने कहा कि- शिवप्रसाद शर्मा शिक्षा, साहित्य और कला की त्रिवेणी थे। हिन्दी व उर्दू में समान रूप से हस्तक्षेप करते थे। बहुत अच्छे कवि थे और रंग कर्मी भी थे। परंपरा की शुरुआत सरल है किंतु निर्वहन कठिन है । फिर भी विश्वास है कि योजना चलती निर्बाध चलेगी। डॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि यह सम्मान सचमुच देश की वरिष्ठ काव्य हस्ती को दिया जाना इस पुरुस्कार का कद बताता है जो आने वाले समय मे और कई साहित्यिक विरासत को हौंसला देने वालो को अवसर देगा |

कार्यक्रम संयोजिका स्नेहलता शर्मा ने स्व. शिवप्रसाद शर्मा के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि इस पुरुस्कार के लिए कुल 19 प्रविष्ठियां प्राप्त हुई जिसमें से वरिष्ठ कवि रामस्वरूप मुंदड़ा कि कृति “कविताओं के इंद्रधनुष के लिए” को निर्णायक मण्डल ने श्रेष्ठ कृति घोषित कराते हुये रामस्वरूप मुंदड़ा को शिवप्रसाद शर्मा स्मृति काव्य रत्न सम्मान से नवाजा | प्रो. मनीषा शर्मा ने कहा सभी कृतियां एक से बढ़ाकर एक थी इसलिए श्रेष्ठ से सर्वश्रेष्ठ का चयन किया गया।

मंच संचालन डॉ. वैदेही गौतम ने किया।, महेश पंचोली साहित्यकार ने सभी का स्वागत किया। शहर गणमान्य साहित्यकार एवं काव्य प्रेमी उपस्थित रहे | इस अवसर पर कौशिकी शर्मा ने अपने दादा की एक कविता का वाचन किया।
————–
डॉ.प्रभात कुमार सिंघल, कोटा

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार