Monday, May 20, 2024
spot_img
Homeअप्रवासी भारतीयलंदन डिज़ाइन वीक भारतीय मूल की रचना गरोडिया के काम की धूम

लंदन डिज़ाइन वीक भारतीय मूल की रचना गरोडिया के काम की धूम

लंदन में हर वर्ष डिज़ाइन वीक आयोजित होता है जिसमें दुनिया भर के डिज़ाइनर शामिल होते हैं . इस बार यह गतिविधि करोना के कारण दो वर्षों के बाद 24 से 26 जून के बीच आयोजित हुआ , पूरी गतिविधियाँ फ़ेरिंगडॉन के सबसे आधुनिक और फ़ैशनेबल इलाक़े में फैली हुई थीं . इस दौरान हमारी मुलाक़ात भारतीय मूल की रचना गरोडिया से हुई जो भारतीय फ़ैशन संस्थान की ग्रेजुएट हैं और बाद में लंदन के रॉयल स्कूल ओफ नीडलवर्क में प्रशिक्षित हैं और इन दिनों अपने अनूठे क़िस्म के बनाई और कढ़ाई के डिज़ायनों के कारण चर्चित हैं . पिछले 13 वर्षों में उन्होंने भारतीय परम्परागत कढ़ाई बुनाई की शैली और लंदन में ब्रिटिश और यूरोपीय देशों के प्रभावों को समाहित करके कुछ नए प्रयोग किए हैं .

डिज़ाइन वीक के दौरान हमारी मुलाक़ात रचना से क्लेरकेनवेल डिज़ाइनर आउट्लेट में उनके स्टाल पर हुई . रचना का परिवार मूलतः राजस्थान से है. उनकी विशेषता विभिन्न माध्यमों में कुछ अलग ही क़िस्म के टेक्स्चर के साथ प्रयोगों को लेकर बनी है , काटन , लिनेन , सिल्क , ऊन जैसे प्रचलित माध्यमों से इतर काग़ज़ , पेड़ की छाल , बीज , टहनियों आदि का इस्तेमाल किया है . रचना के काम की काफ़ी तारीफ़ होती रहती है. यह पॉश जाने पर कि उन्हें अपने अनूठे प्रयोगों की प्रेरणा कहाँ से मिलती है , रचना बताती हैं , “ मुझे अपने प्रयोगों की प्रेरणा प्रकृति के बीच वाक से मिलती है . अपने इन वाक में मैं काफ़ी क़िस्म के पत्ते , टहनियाँ आदि इकट्ठी कर लेती हूँ , इनके से सारी सामग्री इस्तेमाल नहीं हो पाती लेकिन। कुछ सामग्री मुझे कुछ ऐल्फ़ हट कर करने के लिए प्रेरित करती है . इससे मुझे अपने विचारों कैनवास पर बुनने में आसानी हो जाती है.

(लेखक लंदन में हैं और वहाँ बसे भारतीयों की उपलब्धियों पर रोचक आलेख लिख रहे हैं)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार