Wednesday, April 24, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेमुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा का अंदाजे बयाँ और है

मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा का अंदाजे बयाँ और है

समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव फैमिली की इकलौती महिला हैं, जो सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं। वह अपने विचारों से कई बार नेताजी को मुसीबत में डाल चुकी हैं। इस बार मामला बॉलीवुड एक्‍टर आमिर खान के असहिष्‍णुता पर दिए बयान का है, जिसका उन्‍होंने खुलकर विरोध किया है, जबकि खुद मुलायम उनका समर्थन कर चुके हैं।

‘इंडियन एक्‍सप्रेस’ के साथ बातचीत में अपर्णा ने कहा कि सोशल मीडिया या सार्वजनिक कार्यक्रi2mag2eमों में वह जो आइडिया शेयर करती हैं या फिर किसी की आलोचना करती हैं, वह उनके निजी विचार हैं। उन्‍होंने कहा, ‘मैं वही लिखती हूं, जो उस वक्‍त मुझे लगता है। पैशन ऐसी चीज है, जिसका संबंध दिल से होता है, दिमाग से नहीं और मैं अपने दिल की बात सुनती हूं।’ यूपी के सीएम अखिलेश यादव के बारे में पूछे जाने पर अपर्णा कहती हैं, ‘वह अपने सिद्धांतों पर हर हाल में अडिग में रहते हैं। वह मजबूती के साथ यूपी में राज कर रहे हैं। उनकी सफलता के पीछे डिंपल भाभी का प्‍यार और सपोर्ट है।’ मुलायम सिंह के छोटे बेटे की पत्‍नी अपर्णा सामाजिक संगठन हर्ष फाउंडेशन के साथ जुड़ी हुई हैं। वह महिलाओं के लिए कैंपेन चलाती हैं और अलग-अलग जिलों में जाकर लड़कियों से मिलती हैं।
अपर्णा मैचेस्‍टर यूनिवर्सिटी से (इंटरनेशनल रिलेशंस एंड पॉलिटिक्‍स) पोस्‍ट ग्रेजुएट हैं। उन्‍होंने शास्‍त्रीय संगीत भी सीखा है। लोकसभा चुनाव के दौरान उन्‍होंने सपा के लिए प्रोमश्‍नल सॉन्‍ग भी रिकॉर्ड किया था। वह सैफई महोत्‍सव में हर बार परफॉर्म करती हैं। हालांकि, 2014 के सैफई महोत्‍सव में प्रतीक और अपर्णा शामिल नहीं हो सके थे, क्‍योंकि वे दुबई में थे। वैसे यह पहली बार नहीं है जब अपर्णा ने समाजवादी पार्टी की लाइन से हटकर बयान दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्‍वच्‍छ भारत अभियान की तारीफ कर चुकी हैं। उन्‍होंने सोशल मीडिया पर पीएम मोदी के साथ सेल्फी शेयर की और गौहत्‍या के खिलाफ सोशल मीडिया पर पोस्‍ट भी लिखीं। इतना ही नहीं, महंत अवैद्यनाथ के निधन पर वह गोरखनाथ पीठ गईं और बीजेपी के फायरब्रांड हिंदू नेता योगी आदित्‍यनाथ से भी मिलीं।

साभार –इंडियन एक्सप्रेस से

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार