Tuesday, March 5, 2024
spot_img
Homeपाठक मंचमुंबई की खुली जगह का रखरखाव मनपा ही करेः नागरिकों की मांग

मुंबई की खुली जगह का रखरखाव मनपा ही करेः नागरिकों की मांग

मुंबई की खुली जगहों की अपहरण नीती को मुख्यमंत्री रोके एवं राहत दे । मुंबई की खुली जगह का रखरखाव मनपा ही करे। इस आशय का पत्र मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को एक नागरिक समूह द्वारा भेजा गया है। इन नागरिकों में अनिल गलगली, अशांक देसाई, भगवान रैयानी, देबाशीष बसु, डॉल्फी डिसूजा, नयना कठपालिया, शरद सराफ, शैलेश गांधी, सुचेता दलाल, रंगा राव शामिल है।

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को लिखे पत्र में उल्लेख किया है कि 4 मई को मुंबई में खुली जगहों पर नीति पर चर्चा करने के लिए एक बैठक की थी और मनपा आयुक्त ने मई 2023 के अंत तक अंतिम मसौदा प्रस्तुत करने के लिए प्रतिबद्ध किया है। मुंबईकरों को इस महत्वपूर्ण खुले स्थानों का मुद्दे पर किसी भी सार्वजनिक परामर्श की जानकारी नहीं है। लगभग आठ साल पहले हमारे उद्यानों, खेल के मैदानों और मनोरंजन के मैदानों को निजी पार्टियों को देने के लिए एक नीति पारित की गई थी जिसे ‘दत्तक ग्रहण’ और ‘देखभालकर्ता’ नीति कहा जाता था। मुंबई के नागरिकों ने एक अभियान चलाया जिसमें हमने अपने निर्वाचित प्रतिनिधियों को इस ‘अपहरण’ नीति का विरोध करने के लिए बुलाया। इसका परिणाम यह हुआ कि तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने समझदारी से इसे रोक लिया।

पत्र में लिखा है कि सभी जानते हैं कि हमारे देश में कब्जा सर्वशक्तिमान है और कानूनी कागजात लागू करने योग्य नहीं हैं। एक बार कानूनी अधिकार स्थापित हो जाने के बाद मनपा या राज्य सरकार आमतौर पर भूमि वापस पाने में असमर्थ होते हैं। नागरिक हमारे शासन की दुखद वास्तविकता से अवगत हैं। राज्य द्वारा किसी नागरिक की भूमि का अधिग्रहण करना आसान है, लेकिन ऐसे मामलों मेंl वह अपनी भूमि वापस लेने को तैयार नहीं है। अब भी सार्वजनिक खुले स्थानों पर कुछ बड़े अवैध अतिक्रमणकारी हैं जिन्हें कथित तौर पर ‘गोद लेने’ या ‘देखभाल करने वाले’ के आधार पर दिया गया था। इनका अपहरण कर लिया गया है और राज्य उन्हें पुनः प्राप्त करने में असमर्थ है।

पत्र में आरोप लगाया है ऐसा प्रतीत होता है कि अब उसी चाल को पुनर्जीवित किया जा रहा है। हमारे खुले स्थानों को उपहार में देने के दिए गए जो कारण दिए हैं व तर्क संगत नहीं है।

मनपा के पास फंड नही यह पहला तर्क गलत है। मनपा का बजट 50,000 करोड़ रुपये से अधिक है और हमारे खुले स्थानों को बनाए रखने में लगभग 400 करोड़ रुपये से अधिक की लागत नहीं आएगी। मनपा अच्छी तरह से रखरखाव और पर्यवेक्षण नहीं कर सकता है यह दूसरा तर्क भी गलत है।। देशवासी: इसमें कुछ सच्चाई है और इसकी क्षमताओं की स्पष्ट स्वीकारोक्ति है। ठेकेदारों को रखरखाव देना एक बहुत ही सरल उपाय है। इनका ऑडिट उन्हीं संस्थानों को सौंपा जा सकता है, जो इन स्थानों को ‘अपनाने’ में रुचि रखते हों। उस स्थिति में कोई कानूनी अधिकार सृजित नहीं किया जाता है और न ही इसे निजी पक्ष के कब्जे में रखा जाता है। यदि कोई संस्थान वास्तव में सेवा करना चाहता है और इन आधारों को बनाए रखना चाहता है तो यह खुशी से ऐसा करेगा यदि उसके इरादे दुर्भावनापूर्ण नहीं थे। यह कई गैर सरकारी संगठनों द्वारा भी किया जा सकता है।

एक विधायक आशीष शेलार द्वारा प्रस्तुत निजी सदस्य विधेयक को पुनर्जीवित किया जाए ताकि सार्वजनिक खुले स्थानों के रखरखाव और देखभाल को वैकल्पिक कर्तव्य के बजाय निगम का अनिवार्य कर्तव्य बनाया जा सके। ऐसा करना बहुत आवश्यक है ताकि भविष्य में कभी भी अपहरण की नीति वापस न लाई जाए। आखिर में जोर दिया है कोई हमारे खुले स्थानों के ऐसे कपटपूर्ण उपहारों के लिए दरवाजे बंद करें। ये खुले स्थान सरकार के शासकों-नागरिकों के हैं।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार