Sunday, May 26, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिबांद्रा और खार रोड स्टेशनों पर नये पैदल ऊपरी पुलों की शुरुआत

बांद्रा और खार रोड स्टेशनों पर नये पैदल ऊपरी पुलों की शुरुआत

मुंबई। पश्चिम रेलवे ने कोविड-19 के कारण लॉकडाउन के बावजूद ढांचागत उन्नयन और विकास के विभिन्न कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा किया है। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने इन ढांचागत विकास कार्यों को तेजी से पूरा करने में हमेशा गहरी रुचि ली है और वे विभिन्न एजेंसियों के साथ निकट समन्वय रखते हुए ऐसे संरक्षा संबंधी कार्यों के निष्पादन की बारीकी से निगरानी करते हैं। उनके दूरदर्शी नेतृत्व के साथ-साथ निरंतर प्रेरणा के फलस्वरूप यात्रियों की सुविधा और संरक्षा के लिए बांद्रा और खार रोड स्टेशनों पर दो और नए फुट ओवर ब्रिज चालू किए गए हैं।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, बांद्रा स्टेशन पर दक्षिण की ओर सभी प्लेटफार्मों अर्थात प्‍लेटफॉर्म क्रमांक 1 से 7 तक को जोड़ने वाला एक नया फुट ओवर ब्रिज चालू किया गया है। यह नया फुट ओवर ब्रिज 80 मीटर लंबा है और इसकी चौड़ाई 10 मीटर है। इस नए फुट ओवर ब्रिज का निर्माण 7 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है। इसी तरह, खार रोड स्टेशन पर 8 करोड़ रुपये की लागत से एक नया फुट ओवर ब्रिज चालू किया गया है। यह एफओबी 6 मीटर चौड़ा और 110 मीटर लंबा होकर पश्चिम में 5 मीटर चौड़े एवं 27 मीटर लंबे, मध्य में 18 मीटर लंबे तथा पूर्व दिशा में 27 मीटर लंबे स्काय वॉक सहित है। इन दोनों नए फुट ओवर ब्रिजों को यात्रियों के लिए खोल दिया गया है।

श्री ठाकुर ने बताया कि इन दो नए फुट ओवर ब्रिजों के साथ ही वित्तीय वर्ष 2021-22 में पश्चिम रेलवे के मुंबई उपनगरीय खंड में कुल पांच एफओबी चालू किए गए हैं। इनमें से पहला बांद्रा और खार रोड स्टेशनों के बीच है, जबकि दूसरा माहिम (उत्तर) में एमसीजीएम फुट ओवर ब्रिज और तीसरा सांताक्रूज में है। उल्लेखनीय है कि वर्तमान चुनौतीपूर्ण समय के बावजूद यात्रियों की संरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए अन्य पैदल ऊपरी पुल,सड़क ऊपरी पुलों आदि के कार्य भी प्रगति पर हैं। ये समस्त प्रयास पटरी पार करने के खतरे को नियंत्रित करने के साथ-साथ पुलों पर भीड़भाड़ आदि जैसी समस्याओं से निपटने में अत्यंत सहायक होंगे ।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार