आप यहाँ है :

नूरजहाँः दुनिया का नायाब आम

इंदौर (नईदुनिया)। मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल आलीराजपुर जिले का कट्ठीवाड़ा क्षेत्र देश-विदेश में अपने खास किस्म के आम नूरजहां की वजह से मशहूर है। यहां अफगानी नस्ल के इस खास आम की खूब पैदावार होती है। यह आम अपने गुणों और स्वाद की वजह से इतना प्रसिद्ध है कि फसल आने के पहले ही इसकी बुकिंग हो जाती है। नूरजहां किस्म के एक आम का वजन दो से साढ़े तीन किलो तक होता है और एक नग 500 से एक हजार रुपये तक में बिकता है।

इन दिनों पेड़ों पर लगे इस आम को देखने और खरीदने के लिए न केवल बड़ी संख्या में लोग यहां आ रहे हैं बल्कि ऑनलाइन व फोन पर भी बुकिंग करवा रहे हैं। बावड़ी फार्म हाउस के मालिक भरतराज सिंह जादव ने बताया कि जलवायु परिवर्तन के चलते इस वर्ष नूरजहां आम के बौर दिसंबर में ही आ गए थे। आमतौर पर बौर फरवरी माह में आते हैं। इसके बाद फरवरी में भी बौर आ जाने और पहले आए बौर पर भी आम लगने के चलते आम की पैदावार इस साल बढ़ी है, हालांकि आकार पर कुछ असर जरूर पड़ा है। आमतौर पर नूरजहां का वजन अधिकतम साढ़े तीन किलो तक भी हो सकता है, मगर इस बार ऐसा नहीं है।

क्षेत्र में नूरजहां आम के पेड़ों की संख्या बहुत कम है। नूरजहां फार्म के दिव्यराज सिंह ने बताया कि क्षेत्र में तीन फार्म हाउसों में कुल सात पेड़ों पर लगभग 500 की संख्या में आम लगे हैं।

कृषि वैज्ञानिक डॉ. आरके यादव बताते हैं कि किसी भी उपज की बेहतर पैदावार के लिए दो सबसे प्रमुख कारक होते हैं, माटी और आबोहवा। यही इस आम के साथ है। इस क्षेत्र की मिट्टी और वातावरण आम के लिए बेहद मुफीद है। यही कारण है कि यहां न सिर्फ नूरजहां बल्कि आम की कई प्रजातियों की खूब उपज होती है।

साभार- https://www.naidunia.com/ से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top