Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeपाठक मंच“ओपन डोमेन में भाषाई संसाधनों पर मसौदा नीति'' का प्रारूपण अविलम्ब हिन्दी...

“ओपन डोमेन में भाषाई संसाधनों पर मसौदा नीति” का प्रारूपण अविलम्ब हिन्दी में उपलब्ध हो

महोदय,

देश के अनेक भाषा-प्रेमी पिछले वर्षों से इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग में राजभाषा का प्रयोग न किए जाने और जनता सी जुड़ी सभी ऑनलाइन सुविधाएँ सिर्फ अंग्रेजी में थोपने की कई बार शिकायतें कर चुके हैं, कई बार आरटीआई आवेदन भी लगा चुके हैं पर क्या करें हम लोगों के सारे प्रयास व्यर्थ जा रहे हैं, हिन्दी के लिए आवाज उठाने वालों की बात सुनता भी कौन है?

सारे नियम, अधिनियम, दिशा-निर्देश, नीतियाँ केवल अंग्रेजी में ही तैयार किए जाते हैं और उन्हें अंग्रेजी में ही जनता के सुझावों के लिए जारी कर दिया जाता है. अब जब नीतियाँ-नियम अंग्रेजी में जारी होंगे तो उन पर सुझाव कौन दे सकेगा? वही आदमी दे सकेगा जो अंग्रेजी पढ़ सकता हो, उसे समझ सकता हो और पढ़-समझने के बाद अपना सुझाव अंग्रेजी में लिख सकने की योग्यता रखता हो. मेरे विचार में भारत में अंग्रेजी के ऐसे निष्णात विद्वानों की संख्या 2-3 प्रतिशत से अधिक नहीं है.

ऐसा सरकारी अधिकारी इसलिए करते हैं ताकि देश की आम जनता किसी भी प्रकार से नीति-नियम के निर्माण में भाग ना ले सके?
देश में 2-3 प्रतिशत लोगों की सुविधा के अनुसार नीतियाँ और कानून बनाए जाते हैं और उन्हें देश के 100% लोगों पर लागू कर दिया जाता है. अभी 1 दिन पहले इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग ने “ओपन डोमेन में भाषाई संसाधनों पर मसौदा नीति’ का प्रारूपण अपनी वेबसाइट पर अंग्रेजी में डाला है और इस पर ऑनलाइन सुझाव देने की व्यवस्था भी अंग्रेजी में शुरू की है. (लिंक: http://deity.gov.in/content/draft-policy-linguistic-resources-open-domain)

“ओपन डोमेन में भाषाई संसाधनों पर मसौदा नीति” का प्रारूपण अविलम्ब हिन्दी में उपलब्ध हो,ऑनलाइन सुझाव की सुविधा हिंदी में शुरू की जाए. आगे हमेशा जनता के सुझाव चाहने वाले सभी मसौदों को हिन्दी में जारी किया जाए. जब तक यह सुविधा नहीं दी जाती है, तब तक अंतिम तारीख आगे बढ़ाई जाए.

इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा राजभाषा अधिनियम, राजभाषा नियमावली, निर्देश अथवा संसदीय राजभाषा समिति की अनुशंसाओं पर जारी हुए राष्ट्रपति जी के अनेक आदेशों का निरंतर उल्लंघन किया जा रहा है. कृपया मेरी शिकायत का निदान करवाएँ.

भवदीय
खुशाल जैन एण्ड कं. Khushal Jain & Co.
सनदी लेखाकार Chartered Accountants
कार्यालय क्र. १, Office No.01,3rd Floor,
राजसदन (रुइया भवन) RajSadan (Ruia Building),
३९५/३९७, कालबादेवी मार्ग 395/397,Kalbadevi Road,
मुंबई Mumbai-400002.

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार